सीएम कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में मासूमों से करवाया जा रहा टॉयलेट साफ !

सीएम कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में मासूमों से करवाया जा रहा टॉयलेट साफ !

छिंदवाड़ा– सीएम कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा में बेहद शर्मनाक मामला सामने आया है जहां सरकारी स्कूल में मासूमों से शौचालय साफ करवाया जा रहा है, पानी भरवाया जा रहा है. जिसके बाद हर कोई कह रहा है ‘यदि ऐसे पढ़ेगा इंडिया तो कैसे बढ़ेगा इंडिया ?’

दरअसल, ये पूरा मामला सीएम कमलनाथ के गृह जिले के मोहखेड़ विकासखंड ग्राम राजेगांव में स्थित शासकीय प्राथमिक शाला का है. ज्ञान के मंदिर में जब मिडिया के कैमरों ने अंदर घुसकर स्कूल में व्यवस्थाओं की पड़ताल की तो जो कुछ देखा उसके बाद हैरान रह गए. दरअसल तस्वीरों में दिख रहे मासूमों के हाथ में कलम की जगह पानी की बाल्टी थमा दी और कहा गया की आप शौचालय साफ करें.

ये मासूम बच्चे शिक्षक के तानाशाही फरमान के बाद आज्ञाकारी शिष्य की तरह बाहर के हैंड़पंड से पानी भरकर शौचालय साफ कर रहे थे, जबकि स्कूल से सफाईकर्मी नदारद थे. मैडम साहिबा मोबाइल पर बात करने में व्यस्त नजर आ रही थीं. जब मिडियाकर्मी ने मैडम से सवाल-जवाब किया तो टालमटोल कर बचती नज़र आईं और कहने लगी वो खुद शौचालय गई थीं. जबकि मासूम बच्चों ने कैमरे के सामने मैडम साहिबा का नाम लिया था.

दूसरी ओर शिक्षा विभाग अपना मूल काम छोड़कर लगभग सारे काम कर रहा है. विभाग का मूल काम शिक्षा व्यवस्था बनाना है, ताकि बच्चों को बेहतर शिक्षा मिल सके और उनका भविष्य उज्जवल हो सके और वे भी बड़े होकर देश का नाम रोशन कर सकें. लेकिन जब मासूम बच्चों को शौचालय की सफाई से समय मिले तब तो पढ़ पाएंगे. वहीं जब शिक्षा अधिकारी को इस मामले से मिडिया ने रूबरू करवाया तो उनका कहना है कि यदि शिक्षक और बच्चे एक साथ स्वच्छता या कोई और काम करते हैं तो ठीक है. लेकिन यदि बच्चों से काम करवाया जा रहा है, तो यह गलत है.

कुल मिलाकर, अब देखना दिलचस्लप होगा कि इन लापरवाह शिक्षिका पर क्या कार्रवाई होती है या फिर मामला हमेशा की तरह दबा दिया जाएगा. वहीं दूसरी ओर जब सीएम कमलनाथ के गढ़ में शिक्षा के ये हालात हैं, तो आखिर कैसे छिंदवाड़ा प्रदेश के लिए मॉडल जिला साबित हो सकता है !

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0