कहीं स्वच्छता के शिखर से फिसल न जाए इंदौर, ये है असली वजह !

कहीं स्वच्छता के शिखर से फिसल न जाए इंदौर, ये है असली वजह !

इंदौर | देश में सफाई के मामले में हैट्रिक लगा चुके इंदौर के लिए चौथी बार नंबर वन बनना चुनौतीपूर्ण होता जा रहा है,दरअसल हर बार नियमों में हो रहे बदलाव के कारण नगर निगम के सामने भी चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं.

दरअसल, देश में हर बार होने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण के नियमों में बदलाव करने के बाद स्पर्धा में बने रहने के लिए कई शहरों के सामने चुनौतियां खड़ी हो गई हैं.. स्वच्छता सर्वेक्षण साल में एक बार होता था, जिसे लेकर सभी तैयारियां एक ही समय पर करनी पड़ती थीं.. लेकिन नए नियमों के अनुसार हर तीन माह में स्वच्छता को लेकर सर्वेक्षण किया जाएगा.. जिसके कारण अब चुनौतियां और कड़ी हो गई हैं. देश में स्वच्छता की हैट्रिक लगाने वाले इंदौर के लिए इस स्पर्धा में चौथी बार भी नंबर वन आना कठिन होता जा रहा है, वही इस साल के सर्वेक्षण में पब्लिक फीडबैक बहुत महत्वपूर्व रहेगा.. जिसके लिए करीब एक हजार अंक निर्धारित है… इसके तहत सफाई व्यवस्था के सम्बन्ध में टीम आम जनता से करीब 12 प्रश्न पूछेगी.. इसके लिए नगर निगम सभी जगह प्रचार प्रसार भी करेगा.

वही नगर निगम के अधिकारीयों की माने तो सभी शहरो को इस बार जमीनी हकीकत पर कार्य करना रहेगा.. क्योंकी टीम हर तीन महीने में शहरो का सर्वे करेगी.. इससे उन्हें भी वास्तविक कार्यो की जानकरी समय-समय पर पता चलेगी.

कुल मिलकार देश में लगातार 3 बार स्वछता में हैट्रिक मारने वाला इंदौर शहर चौथी बार की चुनौतियों को लेकर जुट गया है वही अब निगम ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0