सरकार ने लगाया एस्मा तो जूनियर डॉक्टर्स ने देना शुरू किया सामूहिक इस्तीफा !

मध्यप्रदेश के हड़ताली जूनियर डॉक्टर्स ने एस्मा का जवाब सामूहिक इस्तीफे से दिया है. भोपाल, जबलपुर, ग्वालियक में जूडा ने इस्तीफा दे दिया है. ग्वालियर में 5 जूनियर डॉक्टर्स को बर्खास्त कर दिया गया है. स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा राज्यमंत्री शरद जैन ने सभी जूनियर डाॅक्टर्स से जनहित में काम पर वापस लौटने की अपील की है.

मध्य प्रदेश के सरकारी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर्स और पैरा मेडिकल स्टाफ सोमवार से हड़ताल पर है. ये लोग स्टायपेंड बढ़ाने सहित अन्य मांग कर रहे हैं. सोमवार को एसीएस राधेश्याम जुलानिया के साथ दोनों पक्षों की बातचीत हुई थी, जो नाकाम रही. उसके बाद सरकार ने हड़ताल कर रहे जूनियर डॉक्टर्स पर एस्मा लगा दिया था.

एस्मा लगते ही आज सुबह जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन की बैठक हुई जिसमें सामूहिक इस्तीफे का फैसला लिया गया. फौरन ही गांधी मेडिकल कॉलेज भोपाल के जूनियर डॉक्टर्स ने सामूहिक इस्तीफा सौंप दिया और हॉस्टल खाली करना शुरू कर दिया. ग्वालियर और जबलपुर में भी जूनियर डॉक्टर्स सामूहिक इस्तीफा दे रहे हैं. हड़ताल के कारण इन मेडिकल कॉलेज से संबंद्ध अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं ठप्प पड़ गयी हैं. मरीज़ दो दिन से परेशान हो रहे हैं.

प्रदेश के 5 मेडिकल कॉलेज के करीब 1500 जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल पर हैं. स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा राज्यमंत्री शरद जैन ने स जूडा के रवैये पर एतराज़ जताते हुए मंत्री ने ने कहा कि इस तरीके का दबाव बनाना समझ के परे है. सरकार सभी पक्षो के बारे मे सोच रही है. डाॅक्टर्स हज़ारों मरीज़ों की चिंता करे. सरकार उनकी मांग पर विचार करेगी.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0