छिंदवाड़ा में सीएम कमलनाथ के खिलाफ अतिथि शिक्षकों के खिलाफ हल्ला बोल

छिंदवाड़ा में सीएम कमलनाथ के खिलाफ अतिथि शिक्षकों के खिलाफ हल्ला बोल

छिंदवाड़ाः प्रदेश भर से आए अतिथि विद्वानो ने मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा में डेरा डाल दिया है। अतिथि विद्वानो ने नियमितीकरण सहित अन्य मांग को लेकर आज यहां अपनी आवाज बुलंद की। इस दौरान पुलिस के साथ उनकी हल्क झड़प भी हुई । प्रदर्शनकारियों ने कहा कि हम सरकार को उनके द्वारा वचन पत्र में किए गए वायदे को याद दिलाना चाहते हैं जिसमें कमलनाथ सरकार ने पीएससी को व्यापम टू बताते हुए अतिथि विद्वानों को नियुक्तियों में प्राथमिकता देने की बात कही थी। मगर अब सरकार उनकी अनदेखी कर पीएससी के माध्यम से नौकरी दे रही है, जो कि वचन पत्र के अनुसार अन्याय है। हालांकि जिला प्रशासन ने देर रात इन अतिथि विद्वानों को रोककर वापस जाने के लिए कहने लगे।

अतिथियों द्वारा विरोध किए जाने के बाद प्रशासन ने लिंगा के पास एक मंगल भवन में ठहराया। सुबह होते ही उन्हें जबरन उठाकर जिले की सीमा से बाहर कर दिया। वहीं एक अतिथि विद्वान ने कहा कि गत 13 अक्टबूर को मंत्री जीतू पटवारी ने भरोसा दिया था कि उन्हें जल्द नियमित किया जाएगा। मगर बाद में सरकार के तरफ से कोई कारवाई नहीं की गई।  छिंदवाड़ा के एसपी मनोज रॉय ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि अन्य जिले से आए कुछ अतिथि विद्वान कानून व्यवस्था की स्थित खराब करने में लगे थे, इसलिए उन्हें सुबह जिले की सीमा के बाहर छोड़ दिया गया।  25 सालों से सरकार की सेवा कर रहे इन अतिथि विद्वानो को इस तरह उपेक्षित छोड़ना अफशोसजनक है। ऐसे में कमलनाथ सरकार को दिए अपने वचन को पूरा करना चाहिए ताकि दर-दर की ठोकरें खा रहे इन शिक्षकों को न्याय मिल सके।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0