राम के बाद सिया पर सियासत, शिवराज और कमलनाथ में छिड़ी महाभारत!

राम के बाद सिया पर सियासत, शिवराज और कमलनाथ में छिड़ी महाभारत!
Spread the love

भोपाल– कमलनाथ सरकार पूर्व शिवराज सरकार का सपना पूरा करेगी. दरअसल श्रीलंका में कमलनाथ सरकार सीता माता का मंदिर बनाएगी. लेकिन मंदिर बनाने से पहले कमलनाथ सरकार सर्वे कराकर तथ्यों को परखने के बाद मंदिर बनवाएगी…जिसपर घमासान मच गया.

पूरे देश में राम मंदिर को लेकर चल रही बहस के बीच अब मध्यप्रदेश की सियासत में सीता मंदिर को लेकर बहस शुरु हो गई है. पूर्व की शिवराज सरकार ने श्रीलंका में सीता माता का मंदिर बनाने की घोषणा की थी जिसे प्रदेश की कमलनाथ सरकार पूरा करेगी. दरअसल मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप झेलने वाली कांग्रेस सीता मंदिर के ज़रिए छवि बदलने की कवायद में जुटी है. कमलनाथ सरकार ने श्रीलंका में मंदिर बनाने की घोषणा की है. ये मंदिर उस जगह बनेगा जिस जगह पर सीता माता ने अग्निपरीक्षा दी थी. लेकिन मंदिर सर्वे करने के बाद बनेगा जिसपर शिवराज सिंह चौहान ने ऐतराज जताया है.

शिवराज ने दावा किया कि श्रीलंका और केंद्र सरकार से ज़रूरी मंजूरी ले ली गई है. श्रीलंका के तत्कालीन राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे 2013 में जब सांची यात्रा पर आए थे तब भी इस मुद्दे को उठाया गया था. आखिरकार 2016 में एक आधिकारिक टीम ने प्रस्तावित मंदिर के स्थल का दौरा किया था. भाजपा सरकार ने तब दावा किया था कि बंगलूरू की एक कंपनी ने इसका डिज़ाइन तैयार किया है और एक साल में निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा.

यह प्रस्तावित मंदिर दिवुरुमपोला में स्थित बौद्ध मठ परिसर के अंदर है जो श्रीलंका के मध्य प्रांत के शहर नुवारा इलिया से लगभग 15 किलोमीटर दूर है. स्थानीय लोगों का मानना है कि सीता द्वारा पहने गए गहने आज भी यहां दफन हैं. कुल मिलाकर अब देखना होगा कि आखिर राम के बाद सिया पर सियासत कहां तक चलती है.!

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED