कोर्ट नहीं खुलने से वकीलों में गुस्सा, उग्र आंदोलन की दी चेतावनी!

कोर्ट नहीं खुलने से वकीलों में गुस्सा, उग्र आंदोलन की दी चेतावनी!
Spread the love

इंदौर .  पिछले लंबे समय से  लगे लॉकडाउन के चलते  देश के  सभी तरह के  कारोबारी प्रतिष्ठान  बंद  किए गए  थे लेकिन लॉक डाउन खत्म होने के बाद इंदौर में व्यापार धीरे-धीरे पटरी पर लौट रहा है वहीं इंदौर भी अब गुलजार होने लगा है जिसके बाद अब बचा है तो सिर्फ कोर्ट परिसर जो अब तक नहीं खोला गया  जिसके नाराज़गी के चलते  आज  हाई कोर्ट बार एसोसिएशन और  जिला कोर्ट बार एसोसिएशन के  पदाधिकारी और  वकीलों ने  बैनर और तख्ती लिए विरोध प्रदर्शन किया ।

गौरतलब है कि अभी कुछ दिन पूर्व जिला कोर्ट को हाईकोर्ट में आदेश आया था कि 15 अगस्त तक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई की जाए यह फैसला इंदौर की मजिस्ट्रेट कमेटी ने किया था । जिसके बाद से वकीलों में खुशी का माहौल था लेकिन अब वकील इस बात की भी मांग कर रहे हैं कि कोर्ट को पूर्ण रूप से खोला जाए ताकि जो फरियादी यहां रोजाना आकर परेशान हो रहे हैं,  उन्हें परेशान ना होना पड़े।

लॉकडाउन के पहले रोजाना 15 से 20 केसों की सुनवाई होती थी। लेकिन अब वह भी नहीं हो पा रही है, जिसके बाद वकीलों को खासा परेशान होना पड़ रहा है। अब वकीलों की मांग है कि जल्द से जल्द कोर्ट को पूर्ण रूप से खोला जाए ताकि वकीलों को परेशान ना होना पड़े। हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष कंवर सिंह राठौर ने बताया कि अनलॉक के चलते एकमात्र न्याय प्रणाली बंद है, जिसके चलते किसी तरह की सुनवाई फिलहाल कोर्ट में नहीं हो पा रही है।

इस कारण पक्षकारों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हाई कोर्ट बार एसोसिएशन द्वारा कई बार न्यायालय प्रशासन को ज्ञापन के माध्यम से कोर्ट खोलने की गुहार लगाई गई है लेकिन इस ओर अभी तक किसी का ध्यान नहीं है, जिसके चलते हजारों प्रकरणों की सुनवाई रुकी हुई है । फिलहाल नगर कोर्ट खुले भी तो लगभग 2 माह बाद ही पूरी तरीके से कोर्ट का काम प्रारंभ हो पाएंगे जिस की गंभीरता प्रशासन समझ नहीं पा रहे हैं।

साथ ही उन्होंने कहा कि फैमिली कोर्ट बंद होने के चलते भरण पोषण और स्कूल फीस को लेकर लोग परेशान हो रहे हैं। बार एसोसिएशन पदाधिकारियों ने पत्रकारों के माध्यम से बताया कि न्यायालय प्रशासन अगर हमारी मांगे जल्द ही पूरी नहीं करेगा तो हाई कोर्ट जिला कोर्ट बार एसोसिएशन और वकील संगठित होकर उग्र आंदोलन करने पर मजबूर होंगे ।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED