जिस फैसले को अंग्रेजो का नियम बताकर विरोध किया, अब उसी का स्वागत कर रहे गौर, जानिये

जिस फैसले को अंग्रेजो का नियम बताकर विरोध किया, अब उसी का स्वागत कर रहे गौर, जानिये
Spread the love

भोपाल : भाजपा के दिग्गज नेता बाबूलाल गौर ने बतौर गृहमंत्री रहते हुए जिस कमिश्नर प्रणाली को अंग्रेजो का नियम बताकर चार साल पहले ख़ारिज कर दिया था. अब वे उसी फैसले का स्वागत करते हुए नजर आ रहे है. दरअसल अक्सर बेबाक बयानों की वजह से अपनी ही सरकार को घेरने वाले बाबूलाल गौर का कहना है कि प्रदेश में अपराध रोकने के लिए कमिश्नर प्रणाली को लागू किया जाना चाहिए.

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में बढ़ते अपराधों के मद्देनजर शिवराज सरकार ने कमिश्नर प्रणाली लागू करने का फैसला लिया है जिसे लेकर कवायद जारी है. मुख्यमंत्री के निर्देश पर पुलिस मुख्यालय ने पुलिस कमिश्नर सिस्टम का ड्राफ्ट तैयार कर गृह विभाग को भेज दिया. माना जा रहा है कि प्रदेश दो महानगरों में जल्द ही कमिश्नर प्रणाली लागू की जा सकती है. वही प्रदेश के सियासी गलियारों में इसे लागू करने और नहीं करने की चर्चा भी शुरू हो गई है.

पूर्व मुख्यमंत्री और गृहमंत्री रह चुके बाबूलाल गौर ने कमिश्नर प्रणाली लागू करने पर सहमति जताई है. और कहा कि इससे प्रदेश में अपराध कम होंगें और कानून व्यवस्था में सुधार होगा. अपराधियों को सजा मिलने में जो विलंब होता है उससे निजात मिलेगी.

आपको बता दे कि साल 2014 में गौर ने बतौर गृहमंत्री रहते हुए कमिश्नर प्रणाली को अंग्रेजों का नियम बताते हुए इसका विरोध किया था. उस समय उन्होने कहा था कि प्रदेश को इसकी जरूरत नहीं. राजधानी सहित राज्य के किसी भी शहर की आबादी इतनी ज्यादा नहीं है कि पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू की जाए.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED