कोरोना काल में आएंगे बाल गोपाल, जन्माष्टमी को लेकर मंदिरों में विशेष तैयारी !

कोरोना काल में आएंगे बाल गोपाल, जन्माष्टमी को लेकर मंदिरों में विशेष तैयारी !
Spread the love

इंदौर .  भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद की अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। इसी वजह से इस पर्व को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी कहते हैं। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व मनाकर हर मनोकामना पूरी की जा सकती है। हालांकि इस साल जन्माष्टमी तिथि को लेकर लोग काफी कन्फ्यूजन हैं। कुछ लोग आज यानि 11 अगस्त को तो कुछ 12 अगस्त को जन्माष्टमी मना रहे हैं।

इंदौर में कृष्ण जन्मोत्सव को लेकर मंदिरों में विशेष तैयारी की गई है। बांके बिहारी मंदिर में 11 तारीख को ही जन्माष्टमी मनाई जाएगी।  दरअसल कोरोना काल में शासन प्रशासन ने मंदिरों में भक्तों की भीड़ पर रोक लगाई है। लिहाजा कोरोना काल में इस बार बिना भक्तों के ही जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाएगा। राजबाड़ा स्थित यशोदा मंदिर में आकर्षक सज्जा की गई है। यहां 12 तारीख को जन्माष्टमी मनाई जाएगी।

इंदौर में बढ़ते कोरोना संक्रमण की वजह से केंद्र सरकार की गाइडलाइन को लेकर जिला प्रशासन सख्त है। कलेक्टर मनीष सिंह के मुताबिक संक्रमण को लेकर लोगों को अनुमति नहीं दी जाएगी। मंदिर में सिर्फ पुजारी ही पूजा कर सकेंगे। कोरोना काल में इस बार नंदलाला बिना भक्तों के झूला झूलेंगे और मंदिरों से लोग दूर रहेंगे। बता दें कि कोरोनावायरस महामारी का प्रकोप कई पर्व त्यौहारों पर पड़ा है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED