टावर पर चढ़ी आशा कार्यकर्ता नीचे गिरी, सहयोगियों ने पुलिस से की मारपीट

Spread the love

भोपाल में सीएम हाउस के सामने धरना दिए बैठींं आशा और उषा कार्यकर्ताओं ने आज ज़ोरदार प्रदर्शन किया. गुस्से से भरी आशा कार्यकर्ता टावर पर चढ़ गयी. पुलिस उसे उतारने की कोशिश कर रही थी उसी दौरान कार्यकर्ता और पुलिस कर्मचारी टावर से नीचे गिर पड़े.

कार्यकर्ता के सिर में गहरी चोट आयी है. उसे अस्पताल ले जाया गया है. अपने साथी के घायल होने से आशा कार्यकर्ताओं का गुस्सा और भड़क गया. उन्होनें पुलिस कर्मचारियों पर लात-घूंसे बरसाने शुरू कर दिए. उसके बाद पुलिस ने कार्यकर्ताओं को काबू किया और गिरफ़्तारी शुरू कर दी. महिला कार्यकर्ताओं को जेल ले जाया गया. पीसीसी चीफ कमलनाथ ने ट्वीट कर सीएम को सलाह दी है कि वो भूमि पूजन छोड़कर आशा कार्यकर्ताओं की सुध लें.

अपनी मांगों को लेकर सीएम हाउस के सामने पॉलिटेक्निक चौराहे पर धरने पर आशा ऊषा और सहयोगिनी कार्यकर्ता धरना प्रदर्शन कर रही है. बिना परमिशन लिए ही मंगलवार को पॉलिटेक्निक चौराहे पर सुबह 10 बजे से धरना-प्रदर्शन चल रहा है. धरने का दूसरा दिन है. पुलिस ने सड़क किनारे बेरीकेड्स का घेरावा बनाया है और इसी घेरे में कार्यकर्ताओं ने रात बिताई.

ज्यादातर कार्यकर्ताओं की मांग है कि आशा सहयोगिनी को 25 हजार रुपए और आशा-उषा कार्यकर्ताओं को 10 हजार रुपए मानदेय सुनिश्चित किया जाए. इसके अलावा नियमितीकरण और चिकित्सा सुविधा समेत दूसरी कई सुविधाओं की मांग की जा रही है. कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया है कि रातभर से पुलिस धमका रही है.

आरोप है कि पुलिस की धमकी से कई कार्यकर्ता वापस लौट गई हैं. पुलिस पर ट्रक से कुचलने, पथराव की धमकी का आरोप है. साथ ही पुलिस पर अभद्रता करने का आरोप भी लगा है. कार्यकर्ताओं का कहना है कि जब तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा, तब तक उनका धरना प्रदर्शन जारी रहेगा.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED