कांग्रेस की रामभक्ति पर बीजेपी का होता है पेट दर्द – बोले कमलनाथ!

कांग्रेस की रामभक्ति पर बीजेपी का होता है पेट दर्द – बोले कमलनाथ!
Spread the love

भोपाल .  उत्तर प्रदेश राम नाम की सियासत के लिए हमेशा से पूरे देश में जाना जाता रहा है। यहां हरेक चुनावों में ये एक बड़ा मुद्दा रहा है। लेकिन वर्तमान में ये मुद्दा उत्तर प्रदेश से ज्यादा पड़ोसी मध्य प्रदेश में ज्यादा अपना असर दिखा रहा है। 5 अगस्त को होने जा रहे राम मंदिर के भूमिपूजन से पहले कांग्रेस – बीजेपी दोनों मैदान में है। बीजेपी तो शुरू से ही इस मुद्दे पर सक्रिय रही है। मगर सबको चौंकाते हुए कांग्रेस भी इस मुद्दे का आक्रमक रूप से समर्थन करते हुए मैदान में कूद पड़ी है। पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने भोपाल स्थित अपने निवास स्थल पर एक भव्य हनुमान चालीसा के पाठ का भव्य आयोजन किया। जिसमे कांग्रेस के कई बड़े नेता शामिल हुए।

कार्यक्रम के बाद मीडिया से मुखातिब होते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि एमपी से कांग्रेस राम मंदिर निर्माण के लिए चांदी की 11 शिलाएं अयोध्या भेजेगी। कमलनाथ ने कहा कि ये शिलाएं प्रदेश की जनता की ओर से भेजी जाएगी। नाथ ने मंदिर निर्माण का स्वागत करते हुए कहा कि राजीव गांधी जी ने 1985 में इसकी शुरुआत की। 1989 में शिलान्यास किया। राजीव जी के कारण ही राम मंदिर का सपना आज साकार हो रहा है। आज राजीव जी होते तो यह सब देखते। इसके बाद भाजपा द्वारा उनकी भक्ति पर उठाए जा रहे सवाल पर पूर्व मुख्यममंत्री ने कटाक्ष करते हुए कहा कि हम जब भी कुछ करते है , भाजपा के पेट में दर्द पता नहीं क्यों चालू हो जाता है। क्या धर्म पर उनका पेटेंट है , उनका ठेका है , उन्होंने धर्म की एजेंसी ली हुई है क्या ?

पीसीसी चीफ ने कहा कि भारत की संस्कृति सभी को जोड़ने वाली है। यहाँ विभिन्न भाषाएँ , विभिन्न धर्मों के लोग रहते है। यह हमारी पहचान है। वहीं स्वयं को धार्मिक बताते हुए उन्होंने बताया कि मैंने छिन्दवाड़ा में हनुमान जी की मूर्ति स्थापित की।हमने अपनी सरकार में गौशालाएँ बनवायी , रामवनगमन पथ के निर्माण की बाधाएँ दूर की , महाँकाल व ओंकारेश्वर मंदिर के विकास की योजना बनायी। इसके बाद बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि हम धर्म का उपयोग राजनीति के लिये नहीं करते है , हम इसे इवेंट नहीं बनाते है। हम सभी की सोच धार्मिक है लेकिन हम धर्म और राजनीति का गठजोड़ नहीं करते है। आज का हमारा आयोजन पार्टी लाइन नहीं भावना की लाइन है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED