भाजपा नेताओं ने वल्लभ भवन में गाया वंदे मातरम !

भाजपा नेताओं ने वल्लभ भवन में गाया वंदे मातरम !
Spread the love

भोपाल | कमलनाथ सरकार द्वारा मंत्रालय में वंदे मातरम गान पर रोक लगाने से सियासत गरमा गई है..बड़ी संख्या में भाजपा नेताओं वल्लभ भवन पहुंचकर वंदे मातरम गाया..और जमकर कमलनाथ सरकार पर हमला बोला.

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के खिलाफ आखिरकार बीजेपी सड़क पर उतर गई है. दरअसल, मध्य प्रदेश में वंदेमातरम् को लेकर सियासत तेज हो गई है इसी क्रम में कमलनाथ सरकार के उस फैसले का विरोध बीजेपी शुरू कर चुकी है जिसमें मंत्रालय में वंदेमातरम् के गायन को रोक दिया गया है. बड़ी संख्या में भाजपा नेता नेताओं ने वल्लभ भवन में कूच की और वंदेमातरम गाया,इस दौरान विधायक विश्वास सारंग, विष्णु खत्री, बीजेपी जिला अध्यक्ष सुरेंद्र नाथ सिंह मौजूद रहे और इसे एक बड़ा अपमान बताया

वहीं इस मामले में कमलनाथ सरकार की तरफ़ से सफाई भी पेश की गई. मुख्यमंत्री कमलनाथ के हवाले से दिए गए बयान में कहा गया कि यह निर्णय ना किसी एजेंडे के तहत लिया गया है और ना ही हमारा वंदेमातरम गायन को लेकर कोई विरोध है. वंदेमातरम हमारे दिल की गहराइयों में बसा है. हम भी समय-समय पर इसका गायन करते हैं.मुख्यमंत्री ने जारी आदेश में कहा है कि, वे वंदेमातरम को वापस प्रारंभ करेंगे लेकिन एक अलग रूप में करेंगे, लेकिन उनका यह भी मानना है कि सिर्फ़ एक दिन वन्देमातरम गायन करने से किसी की देशभक्ति या राष्ट्रीयता परिलिक्षित नहीं होती है. देशभक्ति व राष्ट्रीयता को सिर्फ़ एक दिन वन्देमातरम गायन से जोड़ना ग़लत है.

मुख्यमंत्री ने जारी आदेश में कहा है कि, वे वंदेमातरम को वापस प्रारंभ करेंगे लेकिन एक अलग रूप में करेंगे, लेकिन उनका यह भी मानना है कि सिर्फ़ एक दिन वन्देमातरम गायन करने से किसी की देशभक्ति या राष्ट्रीयता परिलिक्षित नहीं होती है. देशभक्ति व राष्ट्रीयता को सिर्फ़ एक दिन वन्देमातरम गायन से जोड़ना ग़लत है.)

वही इसे लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी मैदान में कूद गए और उन्होंने सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस शायद यह भूल गई है कि सरकारें आती है, जाती है लेकिन देश और देशभक्ति से ऊपर कुछ नहीं है. मैं माँग करता हूँ कि वंदे मातरम् का गान हमेशा की तरह हर कैबिनेट की मीटिंग से पहले और हर महीने की पहली तारीख़ को हमेशा की तरह वल्लभ भवन के प्रांगण में हो. अगर कांग्रेस को राष्ट्र गीत के शब्द नहीं आते हैं या फिर राष्ट्र गीत के गायन में शर्म आती है, तो मुझे बता दें! हर महीने की पहली तारीख़ को वल्लभ भवन के प्रांगण में जनता के साथ वंदे मातरम् मैं गाऊँगा।

उधर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव ने भी कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कमलनाथ सरकार से पूछा कि वे स्पष्ट करे किसके दबाव में बंद किया वंदेमातरम्!

कुल मिलाकर सचिवालय में महीने की पहली तारीख को वंदे मातरम् गाने की 13 साल पुरानी परंपरा के टूटने पर शिवराज सिंह चौहान और कमलनाथ आमने-सामने आ गए हैं

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED