सर्वे ने उड़ाई शिवराज सरकार की नींद, BJP के 100 से ज्यादा विधायकों पर हार का खतरा

सर्वे ने उड़ाई शिवराज सरकार की नींद, BJP के 100 से ज्यादा विधायकों पर हार का खतरा
Spread the love

भोपाल। आगामी विधानसभा से पहले भाजपा हाईकमान द्वारा मप्र की जमीनी हकीकत टटोलने के लिए जो सर्वे कराया है, उसमें भाजपा की हालत बेहद खराब है. यदि पार्टी माजूदा 165 विधायकों के भरोसे फिर से मिशन 2018 के रण में उतरती है तो 100 से ज्यादा विधायको को हार का सामना करना पड़ सकता है. सर्वे रिपोर्ट में 104 विधायकों पर सीधे तौर पर हार का खतरा बताया है…जिनमें से शिवराज सरकार के आधे मंत्री भी शामिल है. खाास बात यह है कि 70 विधायक तो ऐसे हैं, जिनका टिकट कटना लगभग तय हो चुका है. जबकि 30 विधायकों को खराब परफार्मेंस के बावजूद भी टिकट मिल सकता है, लेकिन उनकी जीत-हार का फैसला विपक्ष के प्रत्याशी चयन पर निर्भर करेगा. मप्र के जमीनी सर्वे के बाद भाजपा हाईकमान प्रत्यक्ष रूप से विधानसभा चुनाव में संगठन की कमान खुद संभालने की तैयारी में है.

हाईकमान के सर्वे में नए विधायकों की क्षेत्र में जनता पर पकड़ कमजोर हुई है. भाजपा हाईकमान ने साल के आखिरी में जिन राज्यों में चुनाव होना है. वहां बड़े राज्य खास भाजपा शासित राज्य मप्र, छत्तीसढ़ एवं राजस्थान में खुद सर्वे कराया है. सर्वे एक साल के भीतर दो बार हो चुका है. दोनों ही सर्वे रिपोर्ट में भाजपा की हालत खराब बताई गई है.

मंदसौर गोलीकांड के बाद से किसान सरकार के खिलाफ आक्रोशित हो रहा है. विधानसभा चुनाव में भाजपा को सबसे ज्यादा नुकसान मालवा-निमाड़ में होने की संभावना है. खासकर मंदसौर, रतलाम, नीमच झाबुआ, उज्जैन, इंदौर, बुरहानपुर में भाजपा को बड़ा झटका लग सकता है. वर्तमान में उज्जैन और इंदौर संभाग की 66 विधानसभा सीटों पर भाजपा के पास 56 सीट हैं. उज्जैन संभाग की 29 सीटों में से 28 सीट भाजपा के पास है, सिर्फ मंदसौर जिले में एक सीट कांग्रेस के पास है.

इंदौर के ये विधायक मुश्किल में-

इंदौर की बात करे तो विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 3 से उषा ठाकुर, देपालपुर से मनोज पटेल पर हार का खतरा मंडरा रहा है..वही विधासभा 4 में मालिनी गौड़ की टक्कर कांटे की रहेगी.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED