उपचुनावः सिंधिया को घेरने के लिए बीजेपी के पुराने फॉमुले को हथियार बनाएगी कांग्रेस!

उपचुनावः सिंधिया को घेरने के लिए बीजेपी के पुराने फॉमुले को हथियार बनाएगी कांग्रेस!
Spread the love

अशोकनगर –  मध्य प्रदेश में आगामी उपचुनाव को लेकर सियासी बिसात बिछनी शुरू हो गई है। सत्ताधारी भाजपा और विपक्षी कांग्रेस ने अपनी तैयारियों को मूर्त रूप देना शुरू कर दिया है। शह और मात के इस खेल में दोनों तरफ से जोर की अजमाइश देखने को मिल रही है। प्रदेश का ग्वालियर – चंबल संभाग इस सियासी लड़ाई के केंद्र में है जहां कुल 24 में से 16 सीटों पर मतदान होना है। वहीं  पूर्व  केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए  ज्योतिरादित्य सिंधिया  इस सियासी लड़ाई के अहम किरदार हैं। सिंधिया के चोट से खार खाई कांग्रेस उपचुनाव के माध्यम से उन्हें सबक सीखाना चाहती है।

कांग्रेस ने इसके लिए वही रणनीति अपनाई है जो किसी समय भाजपा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को घेरने के लिए अपनाई थी। गुना से बीजेपी सांसद डॉ केपी यादव के छोटे भाई अजय पाल सिंह यादव ने पूर्व कृषि मंत्री सचिन यादव से मुलाकात से क्षेत्र में नए सियासी समीकरण उभरने के संकेत मिलने लगे हैं। दरअसल सांसद केपी यादव का पूरा परिवार राजनीति में सक्रिय है। अजय पाल स्वयं ग्राम पंचायत में उप सरपंच हैं। आपको बता दें तकरीबन ढ़ाई साल पहले मुंगावली विधानसभा उपचुनाव के दौरान बीजेपी ने सिंधिया को घेरने के लिए केपी यादव को अपने साथ मिला लिया था।

यहां आपको बता दें कि उस दौरान डॉ केपी यादव ज्योतिरादित्य सिंधिया के काफी करीबी हुआ करते थे। बीजेपी ने इस चुनाव में उनका जमकर इस्तेमाल किया था और बाद में 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्हें सिंधिया के खिलाफ मैदान में उतार दिया था। जहां केपी यादव ने सिंधिया को 1 लाख से अधिक मतों से हराकर चुनाव जीता था। कांग्रेस पुनः आज उसी रणनीति पर काम करती हुई दिख रही है। कांग्रेस ने सिंधिया को घेरने के लिए केपी यादव के छोटे भाई अजय पाल को आगे कर दिया है।

बीते दिनों भोपाल में उनकी पूर्व सीएम कमलनाथ से मुलाकात की खबरों की जिले की राजनीति में खुब चर्चा है। ऐसे में यह कयास लगाया जा रहा है कि मुंगावली उपचुनाव में कांग्रेस अजय पाल का वैसे ही इस्तेमाल कर सकती है, जैसा कभी पूर्व में भाजपा ने सिंधिया के करीबी रहे केपी यादव का किया था।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED