देश में दिवाली का जश्न, देवास के बागली में गांवों में छाया अंधेरा!

देश में दिवाली का जश्न, देवास के बागली में गांवों में छाया अंधेरा!
Spread the love

बागली:-विकासखंड सहित जिला स्तर के अधिकारी डूब क्षेत्र का दौरा कर रहे हैं, वह लोगों को डूब क्षेत्र से हटाने की कार्रवाई में जुटे हैं।प्रशासन इन विस्थापित आदिवासी लोगों को पुनर्वास ठीक ढंग से नहीं करा पाया अब इनके सामने यह स्थिति है कि रहने के लिए जगह नहीं है और खेती करने के लिए खेत नहीं है।

वर्तमान में ग्राम कोथमीर स्थित खेतों पर पहुंचने के सभी रास्ते बंद हो चुके है।किसान नाव के जरिए खेतों पर पहुंच रहे हैं और अपनी फसलों को समेट रहे हैं। तो वही मजरा टोला के रूप में स्थित घरों तक पहुंचने के मार्ग भी बंद हो चुके हैं।लोग जान जोखिम में डालकर नाव से अपने घरों एवं खेतों पर पहुंच रहे हैं। जल स्तर लगातार तेजी से बढ़ रहा है कुछ दिनों पहले जहां पर आदिवासी किसान खेती कर रहे थे वह जगह अब बड़े जलाशय में तब्दील हो चुके हैं।जिस पर स्थानीय लोग नाव का सहारा लेकर अपने काम करने पर मजबूर है। वही आलोक अग्रवाल के नेतृत्व में इन विस्थापितों को अपना हक दिलवाने के लिए जल सत्याग्रह कामन खेड़ा खंडवा से प्रारंभ किया जा रहा है।
कुल मिलाकर अब देखना होगा कि शासन प्रशासन इन ग्रामीणों के लिए क्या मदद करता है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED