तोमर को साथ लेकर घूम रहे शिवराज, दिल्ली में चला मुलाकातों का सिलसिला

तोमर को साथ लेकर घूम रहे शिवराज, दिल्ली में चला मुलाकातों का सिलसिला
Spread the love

भोपाल। मध्यप्रदेश चुनाव जीतने के लिए एक बार फिर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की वापसी तय मानी जा रही है. साथ ही संगठन में बदलाव की तस्वीरें भी लगभग साफ़ होने लगी है. भले ही पार्टी हाईकमान ने संगठन में बदलाव करने का ऐलान नहीं किया, लेकिन सीएम शिवराज और नरेंद्र सिंह तोमर की मुलाकात साफ साफ बयां कर रही है कि मिशन 2018 के रण में यह जोड़ी जीत की इबारत लिखने को तैयार है.

29570860_1607487239335736_523455055409415960_n

बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दिल्ली प्रवास पर थे. इस दौरान उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात की. खास बात यह रही कि मंत्री तोमर और सीएम शिवराज पूरे समय साथ रहे. दोनों नेताओं को एक साथ कदमताल करते देख दिल्ली से लेकर भोपाल तक सियासी महकमे में हलचल है. साथ ही तोमर को प्रदेश अध्यक्ष बनाने की खबरे भी तेज है.

29695366_1607710982646695_6890044434519664663_n

सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री चौहान और तोमर के बीच लंबी चर्चा हुई. इसके बाद दोनों नेता पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिलने पहुंचे. इसके बाद वे रेल मंत्री पीयूष गोयल, थावरचंद्र गहलोत से मिले. मुख्यमंत्री ने केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के साथ मप्र के किसानों की समस्याओं को लेकर बैठक की. इस बैठक में केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर मौजूद रहे. इससे पहले दोनों नेताओं ने भाजपा के अलग-अलग नेताआें से एक साथ मुलाकात की.

कुशल संगठक और रणनीतिकार
उल्लेखनीय है कि 2008 और 2013 के चुनाव तोमर के नेतृत्व में लड़े गए थे. इस बार फिर से तोमर के नाम पर सहमति बन रही है तो इसकी खास वजह है- तोमर की संगठन कुशलता, रणनीतिक कौशल और उससे भी बढ़कर कार्यकतार्ओं और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं तक उनकी पहुंच. पार्टी के अंदरूनी हलकों में माना जा रहा है कि इस बार शिवराजसिंह सरकार को पहला खतरा कार्यकर्ताओं के असंतोष और वरिष्ठ नेताओं के आक्रोश का दिखाई दे रहा है. जिससे निपटने के लिए तोमर से बेहतर कोई विकल्प दिखाई नहीं दे रहा है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED