चोइथराम मंडी पहुंचे कलेक्टर मनीष सिंह, फ्रूट व्यापारियों से की चर्चा!

चोइथराम मंडी पहुंचे कलेक्टर मनीष सिंह, फ्रूट व्यापारियों से की चर्चा!
Spread the love

इंदौर –  कोरोना महामारी के कारण देशभर में लगाए सख्त लॉकडाउन के कारण 28 मार्च से इंदौर स्थित एशिया की सबसे बड़ी मंडी में से एक चोइथराम मंडी बंद है। दो माह से अधिक समय तक बंद होने के कारण मंडी व्यापारियों को तगड़ा नुकसान पहुंचा है। दरअसल मंडी जिस समय बंद की गई थी उस दौरान सब्जी का स्टॉक तो खत्म हो गया था लेकिन फल बड़ी मात्रा में रह गए थे, निगम ने तीन दिन बाद सड़े हुए फलों को नष्ट भी किया था।

वहीं कुछ व्यापारियों का माल कोल्ड स्टोरेज में ही रखा रह गया। पिछले 70 दिनों से मंडी बन्द होने के कारण अब स्टोरेज में रखा फल भी खराब हो रहा है, इसके अलावा व्यापार नही होने से व्यापारियों की आर्थिक स्थिति भी खराब हो रही है। ऐसे में व्यापारियों ने भाजपा के वरिष्ठ नेता मधु वर्मा से प्रशासन और उनके बीच सेतु का काम कर मंडी को जल्द से जल्द खुलवाने के लिए गुहार लगाई। इससे पहले मंडी व्यापारियों ने सांसद शंकर लालवाणी के नेतृत्व में कलेक्टर से भी गुहार लगाई थी।

इसी के तहत शुक्रवार को कलेक्टर मनीष सिंह, मधु वर्मा और कोविड सलाहकार समिति के सदस्य डॉ निशांत वर्मा ने फल मंडी का निरीक्षण किया। निरीक्षण के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि फिलहाल हम पूर्व में दी गई अनुमति के बाद शहर में पड़ने वाले प्रभाव पर नजर बनाए हुए है, 12 जून के बाद हम एक बार फिर व्यापारियों के साथ बैठक कर निर्णय लेंगे । उन्होंने स्पष्ट किया कि वर्तमान में मंडी को खोलने की अनुमति नही दी जा रही है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED