कांग्रेस विधायक ने थामा भाजपा का दामन, कतार में कई और विधायक!

कांग्रेस विधायक ने थामा भाजपा का दामन, कतार में कई और विधायक!
Spread the love

भोपाल .  मध्य प्रदेश में कांग्रेस की मुश्किलें थमने का नाम ही नहीं ले रही है। ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस्तीफे के बाद कांग्रेस से नेताओं पलायन जारी है। इसी क्रम में उपचुआव से ठीक पहले कांग्रेस को एक और बड़ा झटका लगा है। प्रदेश में 24 सीटों पर उपचुनाव की तैयारी में जुटी कांग्रेस को छत्तरपुर जिले की बड़ामलहरा विधानसभा सीट से विधायक प्रद्युमन सिंह लोधी ने बड़ा झटका देते हुए बीजेपी में शामिल हो गए हैं। भाजपा में शामिल होने से पहले विधायक प्रद्युमन सिंह लोधी ने अपनी विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश भाजपा कार्यालय में कांग्रेस के पूर्व विधायक प्रधुम्मन सिंह लोधी को बीजेपी का गमछा पहनाकर औपचारिक रूप से  सदस्यता दिलाई। इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा, मंत्री विश्वास सारंग, विधायक रामपाल सिंह, पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता मौजूद रहे।  प्रदेश के बुंदेलखंड अंचल की मलहरा सीट से कांग्रेस के टिकट पर डेढ वर्ष पहले विधायक चुने गए लोधी ने बीजेपी प्रत्याशी ललिता यादव को हराया था। बता दें कि ये वही सीट है जहां से 2003 में उमा भारती जितकर मुख्यमंत्री बनी थीं।

मिडिया से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड के विकास के लिए उन्होंने बीजेपी में जाने का निर्णय लिया है वो भी बिना किसी शर्त के। जाते – जाते हुए उन्होंने कांग्रेस की मुश्किलों को बढ़ाते हुए कहा कि कई और कांग्रेस विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं जो समय आने पर क्षेत्र के विकास के लिए पार्टी का दामन थाम सकते हैं। विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है।  वहीं बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल में बुंदेलखंड के लिए स्वीकृत 1300 करोड़ रूपए की  परिोयोजनाओं को अपने गृह जिले छिंदवाड़ा ले जाने का आरोप लगाया।

बता दें कि मध्यप्रदेश में पहले 24 सीटो पर उपचुनाव होने थे लेकिन अब मध्यप्रदेश में 25 सीटों पर उपचुनाव होंगे। प्रद्युम्न सिंह लोधी के इस्तीफे के बाद बड़ामलेहरा विधानसभा सीट भी खाली हो गई है। वही प्रद्युम्न सिंह लोधी के मंत्री बनाए जाने के कयास भी लगाए जाने लगे हैं।  क्योंकि मंत्रिमंडल विस्तार के बाद उमा भारती ने बुंदेलखंड और लोधी समाज की अनदेखी के आरोप लगाए थे। इसी को देखते हुए अब उनके मंत्री बनने की संभावना ज्यादा बढ़ गई हैं।

 

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED