कांग्रेस सेवादल ने की टिकट की मांग !

कांग्रेस सेवादल ने की  टिकट की मांग !
Spread the love

मध्यप्रदेश– कांग्रेस सेवादल ने अपने लोगों को लोकसभा चुनाव लड़ाने के लिए सर्वे कराया है। सेवादल का दावा है कि 29 में से 15 सीटें ऐसी हैं, जिन पर सेवादल का उम्मीदवार जीत सकता है। उन्होंने पार्टी को जिताउ उम्मीदवारों का पैनल को सौंप दिया है।

लोकसभा चुनाव की घोषणा के बाद सभी दल अपने सभी कार्यकर्ताओं और सभी संगठनों को जमीनी स्तर पर सक्रिय करने में लगे हैंद्य कांग्रेस के कार्यकर्ता भी जन-जन तक पहुंच रहे हैं,

इसमें सेवादल के कार्यकर्ताओं का खासा योगदान हैद्य लोकसभा चुनाव को लेकर सेवादल, कांग्रेस के साथ मिलकर बूथ लेवल तक काम करेगी।

सेवादल, कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को अनुशासन का पाठ भी पढ़ायेगाद्य अनुशासन का प्रशिक्षण दिया जाएगा जिसमे पार्षद से लेकर मंत्री भी शामिल होंगेद्य वहीं सेवादल ने अपने लोगों को लोकसभा चुनाव लड़ाने के लिए भी पैरवी की हैद्य सेवादल ने सर्वे कराया है और इसके आधार पर उन्होंने पार्टी को जिताउ उम्मीदवारों का पैनल को सौंप दिया है।

सेवादल का दावा है कि 29 में से 15 सीटें ऐसी हैं, जिन पर सेवादल का उम्मीदवार जीत सकता है। सेवादल ने कहा है कि सर्वे में बेहतर पाए गए लोगों को टिकट मिलता है तो निश्चित तौर पर पार्टी को लाभ होगा।

वर्तमान में मध्यप्रदेश से कांग्रेस के तीन सांसद है। कांग्रेस इस बार मध्यप्रदेश में 20 से अधिक लोकसभा सीटों पर जीत का टारगेट लेकर चल रही है। वही कांग्रेस का कहना है कि हर संगठन पैनल भेजता है..अगर पार्टी को लगता है तो उन्हें टिकट मिलता है…

आपको बता दे कि सेवा दल ने जिन सीटों पर नाम दिया है उनमे इंदौर, भोपाल, सागर, महू-धार, जबलपुर, शहडोल, दमोह, खजुराहो, सतना, रीवा, मण्डला, बालाघाट, विदिशा, देवास-शाजापुर, उज्जैन लोकसभा सीटों के लिए जिताउ उम्मीदवारों के नाम दिए हैं। सेवादल का दावा है कि यदि यहां पैनल में शामिल लोगों को टिकट दिया गया तो इन सीटों पर कांग्रेस की जीत होगी।

सेवादल ने मुख्यमंत्री कमलनाथ की सीट छिंदवाड़ा, ज्योतिरादित्य सिंधिया की गुना, कांतिलाल भूरिया की झाबुआ सीट को सर्वे में शामिल नहीं किया था। इसलिए इन सीटों पर नाम नहीं दिए गए। इसकी ठोस वजह यह है कि सेवादल इन सीटों को पहले जीता हुआ मान रही है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED