दलित हिंसा पर आमने- सामने हुए दिग्गी और मंत्री नरोत्तम, जानिये क्या है मामला ?

दलित हिंसा पर आमने- सामने हुए दिग्गी और मंत्री नरोत्तम, जानिये क्या है मामला ?
Spread the love

भोपाल :  भोपाल : दलित आंदोलन के दौरान भड़की हिंसा पर अब सियासत गरमाना शुरू हो गई है. पक्ष और विपक्ष के नेताओं के बीच वाद विवाद का दौर शुरू हो गया है.. वही इसे लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और प्रदेश सरकार के कद्दावर मंत्री नरोत्तम मिश्रा आमने सामने हो गए है.

नर्मदा परिक्रमा यात्रा पर चल रहे दिग्विजय सिंह ने दलित हिंसा पर एक बयान जारी कहा कि- हिंसा की घटनाओं के लिए मौजूदा सरकार का असंवेदनशील रवैया जिम्मेदार है. उन्होंने कहा कि एससी-एसटी समाज के लोगों के अधिकार के रक्षा के लिए सरकार को तुरंत कदम उठाना चाहिए.

दिग्गी के बयान पर जनसम्पर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार करते हुए कहा कि- सरकार की कोशिश सबसे पहले प्रदेश में शांति बहाली करना है. इस मामले में कौन क्या बोल रहा है ये उनका मत है.

वही प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी एक वीडियो के माध्यम से अपना बयान जारी कर प्रदेश की जनता से शांति की अपील की है. सीएम शिवराज ने कहा कि कुछ लोगों ने प्रदेश की समरसता को तोड़ने की कोशिश की है और हिंसा के दौरान जो घटनाएं हुई हैं वो दुर्भाग्यपूर्ण हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश में सबकी सुरक्षा सरकार की जिम्मेदारी है. हिंसा के लिए जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

गौरतलब है कि एससी/एसटी कानून पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देशभर में दलित समुदाय ने भारत बंद का आव्हान किया. इस दौरान मध्यप्रदेश के भिंड, मुरैना ग्वालियर और चम्बल सहित कई जगहों पर आंदोलन ने हिंसक रूप ले लिया. प्रदर्शनकारियों ने गाड़ियों में तोड़फोड़, आगजनी और पत्थरबाजी जैसी घटनाओं को अंजाम दिया. पुलिस को हालात पर काबू पाने के लिए लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले का सहारा लेना पड़ा. इस हिंसा में 6 लोगों की मौत हुई है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED