रीवा में रेलवे के खिलाफ धरने पर बैठे किसान, उठाई ये मांग!

रीवा में रेलवे के खिलाफ धरने पर बैठे किसान, उठाई ये मांग!
Spread the love

रीवाः  युवा एकता परिषद ‘युवा आगाज’ की किसान इकाई द्वारा किसानों के हित में लड़ी जा रही लड़ाई तूल पकड़ती जा रही है| बता दें कि रीवा ललितपुर रेल परियोजना के लिए सन 2017-18 में अधिग्रहित की गई भूमि के बदले किसानों को नौकरी देने का वादा रेलवे विभाग ने किया था किंतु अभी तक नौकरी नहीं दी गई जिससे आक्रोशित किसानों ने युवा एकता परिषद के साथ बांसा एवं मडवा में रेलवे के सुरंग सहित अन्य निर्माणाधीन कार्यों को रोककर ग्राम बांसा में अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठे हुए हैं| रेलवे के आला अधिकारी एवं तहसीलदार पहुंचकर किसानों अनशन ना  करने की समझाइश दी किंतु किसानों ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि जब तक हितग्राहियों को नौकरी देने का लिखित आश्वासन नहीं दिया जाता तब तक न ही रेलवे को काम करने दिया जाएगा और ना ही यह अनशन खत्म होगा|

स्थानीय विधायक नागेंद्र सिंह ने किसानों की मांग को जायज करार देते हुए कहा कि मैं मीडिया के माध्यम से केंद्र सरकार से अपील करता हुं कि रेलवे द्वारा किए गए वादे को निभाया जाए। साथ ही उन्होंने बताया कि इस संबंध में वह सरकार को एक खत भी ले चुके हैं। जवाब मिलने के बाद आगे की कारवाई की जाएगी। वहीं युवा एकता परिषद के जिला संयोजक विकास अग्निहोत्री ने बताया कि अभी तक जो भी प्रशासनिक अधिकारी उनसे अनशन खत्म करने की अपील करने आए, किसी ने भी इस पर कुछ आश्वासन नहीं दिया।

किसानों के अनशन में कई स्थानीय नेताओं का आना जाना और किसानों की मांगों के प्रति समर्थन बढ़ता जा रहा है, गुरुवार की रात लगातार हुई तेज बारिश और हवाओं के बीच तंबू तनकर अनशन पर पर बैठे किसानों में से दो अनशन कारियों का स्वास्थ्य ज्यादा खराब हो गया था, एंबुलेंस के माध्यम से तत्काल स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया, अब उनके स्वास्थ्य में सुधार बताया जा रहा है| किसानों का कहना है की अगर शासन प्रशासन ने हमारी मांगे नहीं मांगीं तो आगे रेल रोको आंदोलन किया जाएगा|

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED