पूर्व मंत्री ने फिर दिखाए बगावती तेवर, नाराज नेताओं से कैसे निपटेगी बीजेपी !

पूर्व मंत्री ने फिर दिखाए बगावती तेवर, नाराज नेताओं से कैसे निपटेगी बीजेपी !
Spread the love

देवास –  मध्य प्रदेश में उपचुनाव को लेकर इनदिनों खुब गहमागहमी देखी जा रही है। चुनाव की तैयारियों में जुटी सत्ताधारी बीजेपी के लिए अपने ही बड़ी मुसीबत बनकर सामने आ रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद पार्टी में बगावत के सुर मुखर होते जा रहे हैं। बगावती तेवर अख्यितयार करने वालों में वो नेता हैं जिन्हें गत विधानसभा चुनाव में सिंधिया समर्थकों ने कांग्रेस के टिकट पर पटखनी दी थी। वहीं कुछ वरिष्ठ नेता मंत्री पद म मिलने के अंदेशे के कारण खफा हैं।

नाराज होने वाले प्रमुख नेताओं में दिवंगत मुख्यमंत्री कैलाश जोशी के बेटे और पूर्व मंत्री दीपक जोशी का नाम प्रमुखता से लिया जा रहा है। पूर्व मंत्री दीपक जोशी कई बार अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। दरअसल दीपक जोशी उसी हाटपिपल्या सीट से विधायक का चुनाव लड़ते आ रहे हैं जहां से इसबार बीजेपी सिंधिया समर्थक पूर्व विधायक मनोज चौधरी को टिकट दे रही है। 2018 के विधानसभा चुनाव में मनोज चौधरी ने बीजेपी प्रत्याशी के तौर पर लड़ रहे पूर्व मंत्री दीपक जोशी को 23000 वोटों के बड़े अंतर से हराया था। ऐसे में वरिष्ठ भाजपा नेता दीपक जोशी को मनोज चौधरी की भाजपा उम्मीदवारी रास नहीं आ रही है।

बीते दिनों दीपक जोशी ने एक मीडिया चैनल से बातचीत के दौरान कहा कि उनके पास सारे विकल्प खुले हुए हैं। वो परिक्रमा करने वाले नेता नहीं बल्कि पराक्रम वाले नेता हैं। ऐसे में उनको अपने हक और जिम्मेदारी के लिए लड़ना होगा। पूर्व मंत्री ने पार्टी नेतृत्व के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि जिन लोगों ने गत चुनाव में हमें हराया था, अब पार्टी उन लोगों का पीठ थपथपा रही है। ऐसे में उन्हें अपने कार्यकताओं के लिए लड़ना होगा।

बता दें बीते दिनों भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने दीपक जोशी से मुलाकात की थी। माना जा रहा था कि उन्हें मना लिया गया है, मगर पूर्व मंत्री जोशी का हालिया बयान दिखाता है कि उनके अंदर की बगावती आग अभी ठंडी नहीं हुई है। ऐसे में बीजेपी के लिए हाटपिपल्या का उपचुनाव मुश्किल में फंस सकता है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED