राज्यपाल, राजधर्म और सियासत, जमकर चल रहे बयानों के तीर !

राज्यपाल, राजधर्म और सियासत, जमकर चल रहे बयानों के तीर !
Spread the love

भोपाल  :-मध्य प्रदेश में राज्यपाल पर मेयर चुनाव से सम्बंधित बिल को मंजूरी ना दिए जाने का कांग्रेस नेताओं द्वारा आरोप लगाए जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है. इस बीच सीएम कमलनाथ ने सोमवार देर शाम राज्यपाल लालजी टण्डन से राजभवन जाकर मुलाकात की और मेयर चुनाव बिल के मामले में राज्यपाल के सामने सरकार का पक्ष रखा. इसकी जानकारी खुद जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने दी।

बता दे कि सोमवार सुबह भाजपा के दो पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व उमा भारती ने राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात कर अध्यादेश का विरोध करते हुए इसे रोकने का आग्रह किया।

वही बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कमलनाथ सरकार पर निशाना साधते हुए महापौर चुनाव अप्रत्यक्ष प्रणाली से करवाने को राजीव गांधी के विचारों की हत्या बताया।

उधर, कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा के ट्वीट पर राज्यपाल उखड़ गए। राजभवन ने अध्यादेश को हरी झंडी नहीं दी। इसकी जानकारी के बाद देर शाम उन्हें मनाने मुख्यमंत्री कमलनाथ राजभवन पहुंचे।मुख्यमंत्री ने अध्यादेश के बारे में सरकार का पक्ष रखा। साथ ही कहा कि तन्खा का बयान उनकी निजी राय है। इसे सरकार का मत नहीं माना जाए।

कुल मिलाकर नगरीय निकाय चुनाव प्रणाली में बदलाव के बाद भाजपा और कांग्रेस खुलकर आमने सामने हो गई है। हालांकि माना जा रहा है कि राज्यपाल जल्द ही इस प्रस्तव को मंजूरी दे सकते है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED