धारा 144 के बीच उज्जैन में ऐसे निकली हरिहर मिलन की सवारी

धारा 144 के बीच उज्जैन में ऐसे निकली हरिहर मिलन की सवारी
Spread the love

उज्जैनः धार्मिक नगरी उज्जैन में हरिहर मिलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया।  इस भव्य धार्मिक आयोजन में भगवान की पालकी यात्रा निकाली गई। जिसमे परंपरा के मुताबिक भगवान भोलेनाथ पालकी में बैठकर गोपाल मंदिर पहुचे और भगवान श्री कृष्ण को पृथ्वी का भार सोंप कर कैलाश पर्वत चले गए। उज्जैन अपने धार्मिक आयोजनों के लिए देश विदेश में मशहूर है। यहां हरीहर मिलन के नाम पर हजारों सालों से एक धार्मिक कार्यक्रम आयोजन किया जाता है।

मान्यता है की इस दिन भगवान शंकर पृथ्वी का समग्र भार बैकुंठ के वासी भगवान विष्णु को सोंप कर चार माह के लिए केलाश पर्वत चले जाते हे। इस परंपरा के बाद से ही समग्र मांगलिक कार्य आरंभ हो जाते हे। हरी हर मिलन के इस अवसर पर रात 11 बजे महाकाल राजा पालकी में सवार हो कर सादगी के साथ एक किलोमीटर का रास्ता तय कर गोपाल मंदिर पहुंचे। और यहां विधि विधान से पूजन अर्चन किया गया। धारा 144 लगी होने के कारण ना तो कोई भक्त दिखाई दिया और ना ही आतिशबाजी का नजारा दिखा।

महाकाल मंदिर के प्रशासक सोजान सिंह रावत ने कहा कि शहर में शांति व्यवस्था को बनाए रखने के लिए इस दफे किसी प्रकार के जुलूस को नहीं निकालने का फैसला किया है। महाकाल मंदिर के पुजारी संजय ने कहा कि शहर में लगे धारा 144 को पालन करते हुए शांतिपूर्ण तरीके से सवारी निकाली गई। वहीं जिले के एसपी सचिन अतुलकर ने कहा कि शहर में धारा 144 लागू होने के कारण सभी प्रकार के जुसूस और कार्यक्रमों को निरस्त कर दिया गया है। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए सवारी में की जानी वाली आतिशबाजी को प्रतिबंधित किया गया है।

बता दें कि हरेक साल सवारी गाजे बाजे के साथ निकलती है परन्तु आज सवारी पूरी तरह पुलिस के साये में निकली साथ ही गिनती के पण्डित सवारी में शामिल हुए। कुल मिलाकर पुलिस प्रशासन का ध्यान शहर में अमन चैन कायन रखने पर है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED