इस शिव मंदिर में होता है भोलेनाथ का बारहों मास जलाभिषेक, जानें क्या है मान्यता!

इस शिव मंदिर में होता है भोलेनाथ का बारहों मास जलाभिषेक, जानें क्या है मान्यता!
Spread the love

मुरैना . अब तक आपने शास्त्रों में विदित 12 ज्योतिलिंगो के बारे में सुना होगा, लेकिन सावन के पवित्र महीने में आपको हम ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी खासियत यह है कि यहां भोलेनाथ का जलाभिषेक साल के बारहों मास चैबीसों घण्टे होता है और इसे कोई और नहीं स्वयं गंगा जी द्वारा किया जाता है। आश्चर्यचित कर देने वाला यह शिव मंदिर प्रदेश के मुरैना जिले में जिला मुख्यालय से करीब 60 किमी की दूरी पर पहाड़गढ़ में स्थित है। यहां अदृश्य शिव भक्त ब्रह्म मुहूर्त में शिव की आराधना करते हैं लेकिन ऐसा सिर्फ सावन में नहीं होता बल्कि पूरे साल होता है।

घने जंगलों में ईसुरा पहाड़ की गुफा में बने इस शिवमंदिर में पट खुलते ही पुजारी को शिवलिंग का 21 मुखी, 11 मुखी 7 मुखी बेलपत्रों और चावल, फूलों से अभिषेक हुआ प्रतिदिन मिलता है। प्राकृतिक सौन्दर्य के बीच बसे ईश्वरा महादेव का रहस्य वर्षों बाद भी नहीं सुलझ सका है। ऐसा बताया जा रहा है कि ईश्वरा महादेव मंदिर पर सुबह चार बजे कोई अदृश्य शक्ति पूजा करती है। इसे जानने के लिए कई प्रयास किए गए लेकिन बार-बार रहस्य जानने की ये कोशिश विफल होती जा रही है।

यहाँ शिवलिंग पर ब्रह्म मुहूर्त में बेलपत्र कौन चढ़ाता है इसका रहस्य जानने के लिए कई कोशिशें की गईं, जिसमें लगातार असफलता ही हाथ लग रही है..बहरहाल शिव की महिमा शिव ही जाने….! शायद इस लिए कहा जाता है जहा विज्ञानं खत्म होता है वहीं से आस्था का आकाश शुरू होता है।

 

 

 

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED