MP के इस गांव में लगती है सांपों की अदालत, आकर देते हैं गवाही!

MP के इस गांव में लगती है सांपों की अदालत, आकर देते हैं गवाही!
Spread the love

नसरुल्लागंज:- जमाना भले ही चांद और मंगल ग्रह की बात करें पर सीहोर के ग्राम लसूडिय़ा परिहार में आज भी सर्पदंश से पीडि़त लोग स्वस्थ होने के लिए मंदिर में आते है। अब आप इनके इस विश्वास को आस्था कहे या अन्धविश्वास इससे इनको कोई फर्क नही पड़ता है और ये आस्था या अंधविश्वास की प्रथा 500 वर्षो से चली आ रही है। सीहोर के ग्राम लसूडिय़ा परिहार में सालोंं से नागों की अदालत लगती है, जहां पेशी पर नाग स्वयं मानव शरीर में आकर डसने का कारण बताते हैं।

यहां ऐसा सच देखने को मिलता है जिसे देख कोई भी दांतों तले अंगुली दबा लेता है। नजारा काफी चौंकाने वाला है|जैसे ही सांप की आकृति बनी थाली को नगाडे की तरह पंडित ने बजाना शुरू किया वैसे ही जिन लोगों को कभी भी सांप ने काटा था वह झूमने लगते है| लहराने लगते है और फिर उनके शरीर पर नाग आता है जो डसने का कारण बताता है|

हनुमानजी की प्रतिमा के सामने लगी सांपों की पेशी के दौरान हजारों लोग यह जानने पहुंचे थे कि आखिर उन्हें सांप ने क्यों काटा। कारण जानने के लिए कांडी की धुन पर भरनी गाकर इन्हे पेशी पर बुलाया गया। पंडित की माने तो यहां 500 सालों से ये परंपरा निभाई जा रही है|

दीपावली के दूसरे दिन प्रदेश भर से सांप के काटने से पीडि़त लोग यहां आते है व काटने का कारण जानते हैं। कारण जानने के साथ ही दोबारा एसी घटना न हो जिसके लिए सांपों से वचन भी लिया जाता है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED