ज्योतिरादित्य सिंधिया का सपना पूरा करेंगे पीएम मोदी और सीएम शिवराज!

ज्योतिरादित्य सिंधिया का सपना पूरा करेंगे पीएम मोदी और सीएम शिवराज!
Spread the love

भोपाल .  मध्य प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के साथ ही विकास कार्यों में तेजी आती दिख रही है। ग्वालियर – चंबल संभाग में बनने वाला बहुप्रतिक्षित चंबल प्रोग्रेस वे बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का ड्रीम प्रोजेक्ट माना जाता है।  सिंधिया जब कांग्रेस में थे तब कमलनाथ सरकार ने इस प्रोजेक्ट पर ध्यान नहीं दिया, लेकिन भाजपा में शामिल  होने के बाद शिवराज सरकार ने सिंधिया के इस सपने को साकार करने के लिए कवायद शुरू कर दी गई है। केंद्र सरकार ने जिन 43 नए राजमार्गों का ऐलान किया था उनमें चंबल एक्सप्रेस वे भी शामिल था।

यह एक्सप्रेस वे मुरैना से श्योपुर के बीच करीब 200 किलोमीटर के बीच बनाया जाना है। शुरुआती दौर में इसकी अनुमानित लागत करीब 800 करोड़ रुपए बताई गई थी। हालांकि बाद में जब कांग्रेस सरकार थी इस दौरान चंबल एक्सप्रेस वे की डीपीआर तैयार होने की प्रक्रिया शुरू हुई तो इसमें से भिंड जिले को बाहर कर दिया गया था। इस पर पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने चिट्ठी लिखकर तब के मुख्यमंत्री कमलनाथ से अनुरोध किया था कि भिंड को इस प्रोजेक्ट से बाहर न किया जाए।

एक्सप्रेस-वे बनने के बाद ये माना जा रहा है कि चंबल में टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही बीहड़ की बेकार पड़ी जमीन का इस्तेमाल हो सकेगा। चम्बल एक्सप्रेस-वे को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा समीक्षा की। इस दौरान राजस्थान और मध्यप्रदेश सरकार के अधिकारी भी उपस्थित रहे। सीएम शिवराज ने कहा की चम्बल के विकास के लिए एक्सप्रेस -वे मील का पत्थर साबित होगा।

बता दें की ये प्रदेश के ग्वालियर चंबल इलाके के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट है। इसके साथ ही यह प्रोजेक्ट चुनावी राजनिति के दृषिटकोण से भी काफी अहम है। राज्य की  24 सीटों  पर होने जा रहे उपचुनाव में से 16 सीटें इसी क्षेत्र से आती है। राज्य कैबिनेट का विस्तार भी इसी को ध्यान में रखकर किया गया है। शिवराज सरकार के स्थायित्व के लिए बीजेपी को इस संभाग में अधिक से अधिक सीटों को जीतना होगा।

 

 

 

 

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED