शिवराज के फैसले पर कमलनाथ ने जताई आपत्ति, पूछा ये सवाल!

शिवराज के फैसले पर कमलनाथ ने जताई आपत्ति, पूछा ये सवाल!
Spread the love

भोपाल . कोरोना संकट के कारण बदहाल आर्थिक सेहत से गुजर रही शिवराज सरकार ने प्रदेश के कर्मचारियों को बड़ा झटका देते हुए उनके वेतन बढ़ोतरी पर रोक लगा दी है। सरकार के इस फैसले के बाद राज्य सरकार के कर्मचारियों में आक्रोश व्यापत हो गया है। वहीं कर्मचारियों की अच्छी – खासी संख्या को देखते हुए विपक्षी कांग्रेस भी उनके समर्थन में कूद गई है। उपचुनाव को देखते हुए कांग्रेस ने इसे भूनाने का फैसला कर लिया है। पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक खत लिखा है।

खत में उन्होंने अपनी सरकार द्वारा कर्मचारियों के हित में लिए गए फैसले को पलटने और वेतन बढ़ाने के का फैसला टालने के मामले को लेकर सवाल खड़े किए हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने खत में कहा,  आपके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं, क्योंकि आप निरंतर सक्रिय हैं, इसलिए मैं आपका ध्यान कर्मचारियों के साथ लगातार हो रहे अन्याय की ओर दिलाना चाहता हूं। हाल ही में मैंने समाचार पत्रों में पढ़ा कि, आप की सरकार ने कर्मचारियों की वार्षिक वेतन वृद्धि न देने का फैसला किया है. प्रशासनिक भाषा में आपने उन्हें काल्पनिक वार्षिक वेतन वृद्धि दी है। इसके पूर्व मेरी सरकार ने कर्मचारियों को 5% महंगाई भत्ता देने का निर्णय लिया था, इस फैसले पर भी आपकी सरकार ने रोक लगा दी है।

इसके आगे उन्होंने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार को 25 गद्दारों की मदद से अलोकतांत्रिक रूप से गिराकर बीजेपी ने जो कृत्य किया है, उसके परिणामस्वरूप प्रदेश में उपचुनाव होने जा रहे हैं। इन चुनावों में सरकार 100 करोड़ से ऊपर खर्च करने जा रही है। इसके लिए प्रदेश सरकार ने येनकेन प्रकारेण करोड़ों रूपए के कार्य़ स्वीकृत कर रही है। अगर प्रदेश के हालात खराब हैं तो क्यों ये कार्य़ स्वीकृत किए जा रहे हैं। इससे स्पष्ट होता है कि सरकार लोगों की आंखों में धूल झोंक रही है। अतः सरकार से उनका निवेदन है कुर्मचारियों के रूके हुए समस्त लाभ अविलंब प्रदान करें।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED