नाथ और दिग्गी के मंथन से 18 साल बाद खुला कांग्रेस का दलित एजेंडा !

नाथ और दिग्गी के मंथन से 18 साल बाद खुला  कांग्रेस का दलित एजेंडा !
Spread the love

भोपाल : अनुसूचित जाति के वोट बैंक को लेकर प्रदेश कांग्रेस ने मंथन शुरू कर दिया है. कांग्रेस अब इसी वर्ग को अपने साथ लाकर चुनावी नैया पार करने की रणनीति बना रही है. सागर के पूर्व मंत्री और अजा वर्ग के नेता सुरेन्द्र चौधरी को प्रदेश का कार्यकारी अध्यक्ष बनाना इसी रणनीति का हिस्सा है. प्रदेश में 35 सीटे अनुसूचित वर्ग के लिए आरक्षित है. एससी को लेकर रणनीति बनाने के लिए कमलनाथ और दिग्विजय सिंह सुबह से ही सक्रिय रहे.

दोनों नेताओं ने अकेले में रणनीति तैयार करने को लेकर बंद कमरे में 15 मिनट चर्चा की. इसके बाद दोनों ने पार्टी के अनुसूचित विभाग की बैठक में शिरकत की. दिग्विजय सिंह के साथ उनके पुत्र जयवर्धन सिंह भी थे. बंगले पर हुई मंत्रणा के बाद दोनों नेता प्रदेश कांग्रेस कार्यालय आ गए. यहां कुछ देर एकांत में बातचीत के बाद दोनों नेता बैठक में पहुंचे.

मिशन- 2018 के मुद्दों पर मंथन
कमलनाथ-दिग्विजय सिंह के साथ अजा विभाग की बैठक में अनुसूचित जाति वर्ग का कांग्रेस के प्रति कैसे फिर से रूझान बढ़े इस पर चर्चा की गई. इसके लिए नेताओं से सुझाव भी लिए गए. इसके अलावा मिशन 2018 में इस वर्ग के किन मुद्दों के साथ जनता के बीच जाया जाए इस पर भी मंथन किया गया. अजा वर्ग की प्रदेश में 35 और अजजा वर्ग की 47 सीटे हैं. यह कभी कांग्रेस का सबसे मजबूत वोट बैंक माना जाता था. लेकिन पिछले 15 सालों ने भाजपा ने कांग्रेस से उसका यह मजबूत जनाधार छीन लिया है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED