बच्चियों से दुष्कर्म का समाधान कानून नहीं, बड़े पैमाने पर होना चाहिए कन्याभोज, बोले- महामहिम !

बच्चियों से दुष्कर्म का समाधान कानून नहीं, बड़े पैमाने पर होना चाहिए कन्याभोज, बोले- महामहिम !
Spread the love

भोपाल:-नवरात्र के दिनों में कन्या पूजन का विशेष महत्व है. अष्टमी और नवमी का दिन कन्या पूजन के लिए क्षेष्ठ दिन माना जाता है.राजधानी के राजभवन में राज्यपाल लालजी टंडन ने कन्या भोज दिया.इस दौरान महामहिम ने शक्ति स्वरूप कन्याओं का पूजन किया.

इस दौरान राज्यपाल लालजी टंडन ने देश प्रदेश में बच्चियों के साथ बढ़ रहे अपराधों पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि बड़े शर्म की बात भारत में छोटी छोटी बच्चियों के साथ घटना हो रही है.मारकर फेक दिया जाता है.उसके लिए कानून है लेकिन दर्द देने से इसका समाधन नही है.
हमारी संस्कृति में समाधान है.

कानून और समाज अपने तरह से काम करते है.पर समाज मे ये संस्कृति को फिर से जीवित किया जाना चाहिए. इस पूजन का उद्देश्य समाज मे यह होना चाहिए कि यह कन्या देवी का रूप है.इस तरह से कन्या पूजन बड़े स्तर पर होनी चाहिए.घटनाये कम होंगी.

कुल मिलाकर महामहिम बच्चियों के साथ हो रही दुष्कर्म की घटनाओं से बेहद चिंतित नजर आए.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED