इस मुद्दे पर कैलाश और जीतू के सूर हुए एक, जाने क्या है मामला !

इस मुद्दे पर कैलाश और जीतू के सूर हुए एक, जाने क्या है मामला !
Spread the love

इंदौर –   शनिवार को इंदौर में धरना प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस नेताओं के सामने एसडीएम राकेश शर्मा और सीएसपी डीके तिवारी द्वारा घुटने टकना शिवराज सरकार को नागवार गुजरा है। सरकार ने आधी रात को ही दोनों अधिकारियों का तबादला लूप लाइन में भोपाल कर दिया है। सरकार के इस कदम पर अब सियासत भी शुरू हो गई है। पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने एसडीएम का बचाव करते हुए कहा कि जमीन पर बैठे लोगों से जमीन पर बैठकर ही बात की जाती है, अब हो सकता है कि किसी का पेंट टाइट हो या उनके पैरों में दर्द हो।

वहीं इस मुद्दे पर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी अपनी सरकार द्वारा ली गई लाइन से अलग लाइन ली है। बीजेपी महासचिव ने कहा कि इस मुद्दे को व्यर्थ में इतना तूल दिया जा रहा है। नौकरशाही को हमेशा घुटने के बल झुका कर रखना चाहिए। कैलाश के इस बयान को सरकार द्वारा उठाए गए कदम के विपरीत माना जा रहा है।

दरअसल शनिवार को पूर्व भाजपा विधायक सुदर्शन गुप्ता के खिलाफ कठोर कारवाई की मांग को लेकर राजबाड़ा  पर पूर्व मंत्री जीतू पटवारी, विधायक संजय शुक्ला, विशाल पटेल और शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल धरने पर बैठ गए थे। जिसे हटवाने के लिए एडीएम के नेतृत्व में एसडीएम और सीएसपी वहां पहुंचे थे। इस दौरान जमीन पर बैठे जीतू पटवारी से बात करने के लिए एसडीएम और सीएसपी घुटने के बल नीचे झुक गए और उनकी यह तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो गई।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED