शिव’राज’ में पुलिस की मनमानी, मजनू अभियान को लेकर उठे सवाल

शिव’राज’ में पुलिस की मनमानी, मजनू अभियान को लेकर उठे सवाल
Spread the love

भोपाल : एमपी में क्राइम कंट्रोल को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की खुली छूट मिलने के बाद उत्साहित पुलिस जोश में होश खोने लगी है. आलम यह है कि पुलिस अब निर्दोषियों का जुलूस निकालने लगी है. जिसकी वजह से प्रदेश में मनचलों पर हो रही पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठने लगे है. तजा मामला राजधानी भोपाल में सामने आया जहां दो निर्दोष छात्रों को पुलिस की मनमानी का शिकार होना पड़ा.

मामला चांदबड़ थाना क्षेत्र का है. जहां खुशीनगर में रहने वाले दो छात्र पुलिस की मनमानी कार्रवाई के शिकार हो गए. 10वीं और 11वीं कक्षा में पढ़ने वाले दोनों छात्र अशोका गार्डन में चाय की दुकान पर चाय पी रहे थे. तभी पुलिस आई और मनचलों के नाम पर उन्हें पकड़कर थाने में डाल दिया.

परिजनों को बिना सूचना दिए ही दोनों छात्रों का अशोका गार्डन क्षेत्र में जुलूस निकाल दिया. दोनों के खिलाफ थाने में ना तो कोई मामला दर्ज है और ना ही किसी लड़की ने छेड़खानी की शिकायत की है. पुलिस ने बिना किसी शिकायत के ही मनमाना रवैया अपनाकर मनचलों की धरपकड़ में बेगुनाह छात्रों का ही जुलूस निकाल दिया. हालांकि बाद में पुलिस को अपनी गलती का अहसास भी हुआ. दोनों छात्रों की पुलिस ने खुद जमानत कर छु़ड़वाया. शहर में जुलूस निकालने के बाद से दोनों छात्र सदमें है. दोनों छात्रों ने जुलूस के बाद घर से निकलना ही छोड़ दिया है और एक छात्र इतना बुरी तरह से डर गया है कि 10वीं कक्षा का पेपर भी नहीं दे पाया.

उज्जैन में भी सामने आई पुलिस की गलती

धार्मिक नगरी उज्जैन में भी पुलिस ने एक महिला की शिकायत के बाद दो निर्दोष लोगों को पकड़कर उनका जुलूस निकाल दिया था. लेकिन जब पीड़ित महिला आरोपियों की पहचान करने पहुंची तो पता चला कि पुलिस ने निर्दोष लोगों का जुलूस निकाल दिया. अपनी गलती का अहसास होने के बाद पुलिस ने माफ़ी मांगते हुए दोनों को छोड़ दिया.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED