महामहिम बोले- जयहिंद का मतलब बाबा साहेब की जय, देश को है समरसता की जरूरत

महामहिम बोले- जयहिंद का मतलब बाबा साहेब की जय, देश को है समरसता की जरूरत
Spread the love

RASHTRPTI3

महू / इंदौर : बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की जन्मस्थली पर आज ऐतिहासिक क्षण देखने को मिला. देश के राष्ट्रपति रमानाथ कोविंद आंबेडकर जी की 127 वी जयंती पर मध्यप्रदेश के महू पहुंचे. महामहिम कोविंद देश के ऐसे पहले राष्ट्रपति है जो संविधान निर्माता बाबा साहेब की जन्मस्थली पर पहुंचे. राष्ट्रपति ने आंबेडकर को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि आज राष्ट्र बाबा साहेब की जयंती मना रहा है. और मेरा सौभाग्य है कि मैं देश का राष्ट्रपति बना. मैं इससे पहले भी कई बार महू आया हूं और बाबासाहेब के आदर्शों पर चलने की प्रेरणा महू बाबासाहेब की जन्मस्थली पर आकर आती है.

राष्ट्रपति ने अपने स्वागत के लिए आभार जताते हुए कहा कि बाबा साहेब की वजह से सभी को संविधान में समानता का अधिकार मिला. जयहिंद का मतलब बाबा साहेब की जय होता है. बाबासाहेब ने सबसे ज्यादा जोर शिक्षा पर दिया. उनका कहना था कि शिक्षित बनों और संगठित रहो. वह भारत के पहले मंत्रीमंडल में विधिमंत्री थे और उस वक्त मंत्रीमंडल में सबसे शिक्षित मंत्री थे.

बाबासाहेब ने अपमान और अभावों के बीच जीवन बनाया और अहिंसा का मार्ग चुना. महिलाओं को संपत्ति में हिस्सा दिलाने की बात पर उन्होने मंत्रीमंडल से इस्तीफा दिया था. रिजर्व बैंक की भूमिका में उनकी अहम भूमिका थी और दामोदर वैली, हीराकुंड योजना में भी उनका अहम योगदान था. इस समय समाज और देश को बाबा साहेब के आदर्शो पर चलकर अहिंसा और समरसता की जरूरत है. देश में विभाजनकारी ताकतों का उल्लेख नहीं होना चाहिए.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED