उज्जैन में संघ का सम्मलेन, शिक्षा के नए एजेंडे पर होगा मंथन

उज्जैन में संघ का सम्मलेन, शिक्षा के नए एजेंडे पर होगा मंथन
Spread the love

भोपाल : शिक्षा को भारतीय संस्कारों को जोड़नें की वकालत कर रहा संघ अब देश में शिक्षा का नया एजेन्डा तय करेगा. उज्जैन में होने वाले तीन दिवसीय गुरूकुल सम्मेलन में इस पर मंथन किया जाएगा. सम्मेलन का शुभारंभ संघ के सरसंघचालक मोहन राव भागवत करेंगे. सम्मेलन में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, संघ के उप प्रमुख सुरेश सोनी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े अनेक दिग्गज भाग लेंगे.

प्राचीन विद्या अर्जन के केन्द्र गुरूकुल के गौरवशाली इतिहास और उसकी शिक्षा के मूल तत्वों को आधुनिक शिक्षा से जोड़ने के लिए संस्कृति विभाग और भारतीय शिक्षण मंडल द्वारा इस सम्मेलन का आयोजन संयुक्त रूप से किया जा रहा है. उज्जैन के महर्षि संदीपनी वेद विद्या प्रतिष्ठान में होने वाले इस आयोजन में नेपाल, इंडोनेशिया, म्यानमार, त्रिनिदाद,मारीशस समेत एक दर्जन देशों के तीन हजार से अधिक प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं. सम्मेलन में इस बात पर मंथन होगा कि आधुनिक शिक्षा पद्धति में गुरूकुल शिक्षा पद्धति के कौन-कौने से तत्व शामिल किए जा सकते हैं.

जारी होगा गुरूकुल घोषणा पत्र
तीन दिवसीय सम्मेलन में वक्ताओं के विचारों के आधार पर गुरूकुल घोषणा पत्र तैयार कर इसे जारी किया जाएगा. इसे केन्द्र सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय को भेजा जाएगा. सम्मेलन में तीन सत्र होंगे पहले सत्र में गुरूकुल के इतिहास, उसके वर्तमान स्वरूप दूसरे सत्र में गुरूकुल शिक्षा पद्धति व उसमें पढ़ाए जाने वाले बिषयों पर चर्चा होगी. तीसरे सत्र में गुरूकुल शिक्षा को देश की मुख्य धारा की शिक्षा बनाए जाने पर चर्चा की जाएगी.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED