न्यायदान प्रक्रिया में NLIU की भूमिका पर संगोष्ठी, CM कमलनाथ ने रखे अपने विचार !

न्यायदान प्रक्रिया में NLIU की भूमिका पर संगोष्ठी, CM कमलनाथ ने रखे अपने विचार !
Spread the love

भोपाल :  देशभर की नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी से पास आउट वकील न्यायदान की प्रक्रिया में क्या योगदान दे सकते हैं। शनिवार को इस विषय पर एक दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एएम खानविलकर और मुख्यमंत्री कमलनाथ समेत मप्र हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एके मित्तल और विधानसभा अध्यक्ष एनके प्रजापति शामिल हुए।  संगोष्ठी का आयोजन कन्फेडरेशन ऑफ एलुमिनाई फॉर नेशनल यूनिवर्सिटीज, मप्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण और बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने संयुक्त रूप से किया।

इस मौके पर कैन ने देशभर की नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज से चुने 14 लॉ स्टुडेंट्स को स्कॉलरशिप प्रदान की गई।  संगोष्ठी का उद्देश्य एनएलआईयू से निकले स्टुडेंट कार्पोरेट सेक्टर में न जाकर अदालतों में वकालत करें, ताकि लोगों को जल्द इंसाफ मिल सके। इसके साथ ही एनएलआईयू में और क्या सुधार हो सकते हैं। इस पर भी देश के वरिष्ठ कानूनविदों ने संगोष्ठी में मंथन किया। राज्यसभा सांसद व वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक तन्खा और सीएम कमलनाथ ने अपने विचार रखे.

कुल मिलाकर इस कार्यक्रम का उद्देश्य था की  ‘न्याय दान की प्रक्रिया में राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालयों की भूमिका को सशक्त बनाना’ है…संगोष्ठी में आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस जेके माहेश्वरी, सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया तुषार मेहता और बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा भी मौजूद रहे ।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED