मार्केट खोलने को लेकर तनातनी बरकरार, व्यापारियों को नहीं मिली कोई राहत!

मार्केट खोलने को लेकर तनातनी बरकरार, व्यापारियों को नहीं मिली कोई राहत!
Spread the love

इंदौर . कोरोना संक्रमण से जुझ रहा इंदौर इससे निपटने के लिए हर मुमकिन कोशिशें करता दिख रहा है। मगर फिर भी हालत नियंत्रण में आते नजर नहीं आ रहे हैं। जिला प्रशासन ने ग्रामीण क्षेत्र के साथ शहर के अधिकांश क्षेत्र के बाजारों को सप्ताह में छह दिन व्यापार करने की अनुमति दी है। लेकिन जेलरोड, राजवाड़ा, महारानी रोड, रानीपुरा, जवाहर मार्ग, सर्राफा, कपडा बाजार सहित मध्य क्षेत्र के सभी बाजारों को लेफ्ट राइट की तर्ज पर ही खोलने  की अनुमति दी है।

प्रशासन के इस दोहरे रवैये का विरोध करते हुए मध्य क्षेत्र के कुछ व्यापारिक संगठनों ने सोमवार से आंदोलन की चेतवानी दी थी। इसी को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर मनीष सिंह ने अहिल्या चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स के माध्यम से मध्य क्षेत्र के सभी व्यापारिक संगठनों को चर्चा के लिए आमंत्रित किया। कलेक्टर कार्यालय में हुई इस बैठक में एक एक कर सभी व्यापारिक संगठनों ने अपनी अपनी परेशानी कलेक्टर के समक्ष रखते हुए कुछ सुझाव भी दिए। इसमें सभी अहम सुझाव बाजारों को पांच दिन व्यापार की छूट देने व दो दिन लॉक डाउन रखने का था।

व्यापारियों से चर्चा के बाद कलेक्टर ने सभी को शहर के हालातों की जानकारी देने के साथ अभी तक दिए सहयोग के लिए आभार  और आने वाले दिनों के लिए सहयोग की अपेक्षा के लिए अपील की। उन्होंने विभिन्न एसोसिएशन द्वारा दिए गए सुझावों को आपदा प्रबंधन समिति के समक्ष रखने की बात कही। चर्चा के लिए बुलाए जाने पर व्यापारियों को लगा था कि कलेक्टर तुरंत ही कुछ निर्णय लेकर उन्हें राहत दे सकते हैं। लेकिन कलेक्टर ने आपदा प्रबंधन समिति के पाले में गेंद डालकर फिर मध्य क्षेत्र के व्यापारियों को अधर में लटका दिया है। दरअसल रक्षाबंधन और बकरीद को देखते हुए व्यापारी चाहते हैं कि उन्हें कम से कम सप्ताह में पांच दिन तक दुकानों को खोलने की अनुमति दी जाए।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED