मांगे पूरी न होने पर MP में अध्यापक करेंगे आमरण अनशन

मांगे पूरी न होने पर MP में अध्यापक करेंगे आमरण अनशन
Spread the love

मध्य प्रदेश : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के एलान के बावजूद अध्यापकों को शिक्षा विभाग में शामिल नहीं कर अलग से कैडर बनाये जाने से नाराज़ अध्यापक फिर आंदोलित हो गए है. अध्यापकों ने राजधानी के शाहजहानी पार्क में आंदोलन शुरू कर दिया है.

सरकार ने अद्यापकों को शिक्षा विभाग में शामिल न कर शिक्षा विभाग के अधीनस्थ राज्य स्कूल शिक्षा सेवा के अंतर्गत एक नया कैडर बनाकर प्राथमिक शिक्षक, माध्यमिक शिक्षक, और उच्च माध्यमिक शिक्षक के पदों पर नवीन नियुक्ति के रूप में किया गया है. इससे फिर से एक विभाग में 2 कैडर बन गए है. अलग से बने कैडर में शिक्षकों को सुविधाएं दिए जाने का उल्लेख नहीं है.

दरअसल, शिक्षा विभाग में संविलियन को लेकर अध्यापकों ने आंदोलन किया था. इसी आंदोलन से डर कर सीएम शिवराज ने सभी संवर्ग के शिक्षकों को अपने बंगले पर बुलाकर 21 जनवरी को एक विभाग एक कैडर के अंतर्गत शिक्षा विभाग में संविलियन का एलान किया था. लेकिन 29 जून को कैबिनेट के फैसले के बाद अध्यापकों में आक्रोश है.

अध्यापकों ने चेतावनी दी है कि यदि उनकी मांगों पर सरकार ने विचार नहीं किया तो 25 जून से अध्यापक अनिश्चितकालीन आमरण अनशन शुरू करेंगे. साथ की अध्यापक संगठन ने विधानसभा के घेराव की भी चेतावनी दी है.

ये है अध्यापकों की मांग-

-अध्यापकों को शिक्षा विभाग में संविलियन किया जाये
-अध्यापकों को सहायक शिक्षक, शिक्षक और व्याख्यता बनाया जाये
-शिक्षकों की तरह सभी सुविधाएं मिले
-जनवरी 2016 से सातवे वेतनमान का लाभ दिया जाये
-अध्यापक और गुरूजी की सेवा के गणना पदोन्नति, क्रमोन्नति, ग्रेज्युटी, पेंशन के लिए प्रावधान दिए जाये
-ट्राइबल विभाग में कार्यमुक्ति पर लगी रोक हटाई जाये
-जुलाई 2018 के बाद नई भर्ती होने वाले शिक्षकों के लिए नियुक्ति शब्द का उपयोग किया जाये
-छठवें वेतन मान की विसंगतियों को दूर किया जाये
-इ-अटेंडेंस की व्यवस्था बंद की जाये
-केंद्र की तरह एनपीएस कर्मचारियों को सेवा काल में मृत्यु होने पर न्यूनतम पेंशन की पात्रता हो
-सेवा निवृत्ति आयु 62 से बढ़ाकर 65 वर्ष की जाये

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED