लहरों पर निकली शवयात्रा, जिसने भी देखा रो पड़ा !

लहरों पर निकली शवयात्रा, जिसने भी देखा रो पड़ा !
Spread the love

नीमच:-मध्य प्रदेश के नीमच जिले में एक बार फिर ऐसी तस्वीरें सामने आयी हैे जिसे देखकर कोई भी एक बार रो पड़े. गांव वाले कमर से ऊपर तक पानी में डूबकर एक किसान की अर्थी लेकर श्मशान घाट पहुंचे, क्योंकि वहां तक जाने के लिए कोई पक्की सड़क या अच्छा रास्ता नहीं है. ये सिलसिला बरसों से ऐसे ही चल रहा है.

नीमच ज़िला मुख्यालय से 8 किलोमीटर दूर स्थित गिरदौड़ा ग्राम पंचायत में पिपलिया हाड़ा गांव है. यहां 9 अक्टूम्बर को एक बुजु़र्ग व्यक्ति भगवान लाल भील की मौत हो गयी. उनका अंतिम संस्कार होना था. श्मशान घाट दूर था. वहां तक जाने के लिए सड़क नहीं है. रास्ता कच्चा है और बीच रास्ते में पानी भरा था. लेकिन अंत्येष्टि तो होना ही थी. इसलिए गांव वालों ने मिलकर अर्थी को कंधा दिया और फिर निकल पड़े अपने बुज़ुर्गवार की अंतिम यात्रा पर. रास्ते में कमर के ऊपर तक पानी भरा था. लोग उसी पानी में से होकर गुज़रे और श्मशान घाट पहुंचे. इस कांग्रेस नेताओं का कहना है यह पंचायत का जिम्मा है कि वहां की स्थिति ठीक करे. यह घटना शर्मनाक है. नीमच जिले में ऐसी घटना पहले भी घटती रही हैं.

कलेक्टर अजय गंगवार का कहना है ये पंचायत की बड़ी लापरवाही है. मैं तत्काल जिला पंचायत सीईओ को निर्देश देता हूं कि वो श्मशान जाने वाले रास्ते को ठीक कराएं. वहां कोई स्टॉप डैम या पूल बनवाएं.

कुल मिलाकर ये तस्वीर तमाचा है उन नेताओं के मुंह पर जो समृद्ध मध्यप्रदेश की बात करते है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED