इंदौर लोकसभा सीट काँटों भरी है गांव की राह, BJP के शंकर को देना होगी अग्निपरीक्षा !

Spread the love

इंदौर | शहरी नेता माने जाने वाले भाजपा प्रत्याशी शंकर लालवानी की ग्रामीण स्थित कमजोर मानी जा रही है साथ इस बार इंदौर की तीनों ग्रामीण सींटे कांग्रेस के कब्जे में है ऐसे में ग्रामीण इलाका मुसीबत का सबब बन सकता है लिहाजा अब ग्रामीण नेताओं ने साथ रणनीति बनाने में जुट गए है शंकर लालवानी.
इंदौर से दिल्ली तक मची खींचतान और लंबे इंतजार के बीच शहर की राजनीति के ‘मैनेजमेंट गुरु’ शंकर लालवानी ने टिकट की दौड़ में जीत हासिल कर ली .. पार्षद से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले लालवानी ने एक के बाद एक पायदान चढ़कर अपना राजनीतिक वजूद कायम रखा ,सभी को साधे और आगे चलो की रणनीति लालवानी के लिए हमेशा मददगार साबित हुई…लेकिन अब तक शहर की राजनीति में सक्रिय रहे लालवानी के पास शहरी कार्यकर्ताओं की लम्बी फौज है,लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में नेटवर्क की कमी है ..साथ ही साथ इंदौर लोकसभा की तीनों ग्रामीण सीट राऊ,देपालपुर और सांवेर पर कांग्रेस का कब्ज़ा है..

इतना ही नहीं इन्हीं ग्रामीण सीटों से कमलनाथ के उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी जो राऊ विधानसभा से आते है तो वही सांवेर से लोक स्वास्थ्य विभाग के मंत्री तुलसीराम सिलावट ग्रामीणों में अपनी गहरी पैठ रखते है…. वही जब इस बारे में भाजपा के ग्रामीण नेताओं से MP न्यूज़ ने चर्चा की तो कुछ इस तरह जवाब देते नजर आये भाजपा ग्रामीण के नेता .

वही जब इंदौर ग्रामीण सीट को लेकर जब भाजपा प्रयाशी शंकर लालवानी से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया हमारे साथ सभी ग्रामीण नेता है जिनके पास चुनाव लड़ने और लड़ाने का लंबा अनुभव है …
आपको बता दे की शंकर लालवानी के IDA अध्यक्ष रहते हुए किसानों की भूमि अधिग्रहण का मामला खूब गरमाया था …साथ ही लालवानी की ग्रामीण इलाको में कमजोर पकड़ भी मुसीबत का सबब बन सकती है लिहाजा अब पूरी पार्टी ग्रामीण अंचल को मजबूत करने में जुट गयी है …बहरहाल अब यह तो आने वाला व्यक्त बताएगा ग्रामीणों का दिल भजपा जीतती है है फिर कांग्रेस …

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED