टाइगर स्टेट में जमकर हो रही है टाइगर पॉलिटिक्स, दिग्गी – कमलनाथ ने साधा निशाना!

टाइगर स्टेट में जमकर हो रही है टाइगर पॉलिटिक्स, दिग्गी – कमलनाथ ने साधा निशाना!
Spread the love

भोपाल .  मध्य प्रदेश में टाइगर की आबादी सबसे अधिक होने के कारण इसे टाइगर स्टेट का दर्जा मिला हुआ है। मगर इस वक्त टाइगर शब्द एमपी की सियासत में धमाल मचाए हुए है। यहां नेता अपने सियासी ताकत को दिखाने के लिए खुद को टाइगर बताते फिर रहे हैं। 2018 विधानसभा चुनाव में हार के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक भरी हुए सभा में अभिनेता सलमान खान के फिल्म का एक डायलॉग दोहराते हुए कहा था, ‘टाइगर अभी जिंदा है।‘  उस समय इस बयान ने खुब सुर्खियां बटोरी थी।

अब यही बयान बीजेपी के फायरब्रांड नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कैबिनेट विस्तार के बाद अपने विरोधियों पर पलटवार करते हुए दिया है। अब प्रदेश की सियासत में एक नई बहस छिड़ गई है कि टाइगर कौन है। वहीं विपक्षी कांग्रेस इस पर चुटकी ले रही है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस सांसद ने सिंधिया के बयान पर तंज करते हुए कहा कि  एक जंगल में दो शेर नहीं रह सकते हैं। जब जंगल में दो राजा हों, तो उसमें एक ही रह पाता है, दोनों नहीं रह पाते है। टेरिटोरियल फाइट्स होती हैं।

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमनलाथ ने भी तंज कसते हुए कहा, टाइगर अगर जिंदा है तो यह टाइगर कौन सा है? यह पेपर का टाइगर है, जंगल का टाइगर है या फिर सर्कस का टाइगर ?  इतना ही नहीं कमलनाथ ने इसकी तुलना घोड़ों से कर दी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने घोड़ों का उदाहरण देते हुए कहा कि एक घोड़ा शादी ब्याह में सज धज कर नाचने जाता हैं, तो वहीं एक घोड़ा रेस का होता है। इसी प्रकार टाइगर के भी कई प्रकार होते हैं। इससे पहले पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने शिवराज ज्योतिरादित्य सिंधिया के टाइगर होने के बयान पर कहा कि हमारे पास कमलनाथ बब्बर शेर हैं। वहीं बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा ने दिग्विजय सिंह के शेर के शिकार करने वाले बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि उनका स्वभाव ही शिकार करना रहा है। उनकी ताजा शिकार हुई है कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार।

 

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED