MP में इस पेड़ को छूने से दूर होती हैं सभी बिमारियां, जानिए हकीकत !

MP में इस पेड़ को छूने से दूर होती हैं सभी बिमारियां, जानिए हकीकत !
Spread the love

होशंगाबाद- सतपुड़ा के जंगल में महुआ के ‘चमत्कारिक पेड़’ को छूने के लिए लाखों लोग पहुंच रहे हैं. सोशल मीडिया पर इस अफवाह के फैलने के बाद ऐसा हो रहा है कि इस पेड़ को छूने के बाद लोगों की बीमारियां जड़ से खत्म हो रही हैं.

सतपुड़ा के जंगल का एक रहस्यमय पेड़ और अंधविश्वास के कारण वहां लग रहा मेला चर्चा का विषय बना हुआ है. सोशल मीडिया पर एक मैसेज फैला कि पिपरिया के नजदीक नया गांव के जंगल में एक महुआ के पेड़ को छूने के बाद लोगों की बीमारियां जड़ से खत्म हो रही हैं. इसके बाद सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के बफर जोन में स्थित महुए के इस चमत्कारिक पेड़ को छूने के लिए रोज हजारों लोग पहुंचने लगे. अब तो हालात ऐसे हैं कि पुलिस, जिला प्रशासन या फिर वन विभाग अंधविश्वास के कारण लग रहे इस मेले से सभी परेशान हैं. जंगल के कानून भी बेअसर हो गए हैं.

महुआ के पेड़ की कहानी सोशल मीडिया से शुरू हुई और इसे आस्था कहा जाए या अंधविश्वास की इस धारणा ने बड़ा रूप ले ले लिया. लोगों के मुताबिक सोशल मीडिया पर यह महुआ का पेड़ काफी चमत्कारिक बताया गया. इस अफवाह के फैलने के बाद देश भर से लाखों की संख्या में परेशान लोग इस पेड़ के पास पहुंच रहे हैं. हालांकि, एक भी श्रद्धालु ऐसा नहीं मिला है जो महुआ के पेड़ को छूने के बाद  ठीक हुआ हो. जनचर्चा यह है कि इस पेड़ के पास हाथ रखकर बैठने से अपने आप हाथ पेड़ की तरफ खींचे चले जाते हैं और लोगों की बीमारियां ठीक हो जाती हैं. इस खबर के वायरल होने के बाद पिपरिया के नजदीक बसे एक छोटे से गांव कोड़ापड़रई से लगे जंगल का यह पेड़ ‘चमत्कारिक पेड़’ के नाम से मशहूर हो गया.
सोशल मीडिया पर फैली इस रहस्यमय पेड़ की कहानी ने इस स्थान को अंधविश्वास के मेले में तब्दील कर दिया.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED