उमा भारती की महाँकाल भक्ति पर उठे सवाल, Twitter पर आई ये सफाई !

उमा भारती की महाँकाल भक्ति पर उठे सवाल, Twitter पर आई ये सफाई !
Spread the love

उज्जैन। पूर्व केंद्रीय मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने सलवार कुर्ते में महाँकाल मंदिर में दर्शन किए जिसपर पर विवाद खड़ा हो गया। वही उमा भारती ने पुजारियों से कहा आप मुझे साड़ी गिफ्ट कर दें, अगली बार वही पहन कर आऊंगी’

मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में मंगलवार को एमपी की पूर्व सीएम और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने महाँकाल के दर्शन किए. उमा महाँकाल की बड़ी भक्त हैं और हर साल सावन में एक बार महाँकाल के दर्शन के लिए जरूर आती हैं। इस दौरान उमा भारती ने महाँकाल का अभिषेक किया साथ ही गर्भगृह में बैठकर महाँकाल की साधना की।
लेकिन इस बार महाँकाल मंदिर के पुजारी ने उमा भारती के ड्रेस कोड पर सवाल खड़े कर दिए।
इस पर उमा भारती ने भी अपनी गलती मानते हुए कहा कि अगर पुजारी जी कह रहे हैं, तो वे सही ही कह रहे होंगे। उमा ने कहा कि ‘अगली बार आऊंगी तो ध्यान रखूंगी.’ दरअसल, उमा भारती साध्वियों की ड्रेस अचला धोती पहनकर गर्भगृह में प्रवेश कर दर्शन कर रही थीं, लेकिन नियम के मुताबिक गर्भगृह में प्रवेश के दौरान महिलाएं साड़ी में और पुरुष धोती और सोला पहनकर ही प्रवेश कर सकते है।
वही उमा भारती ने ट्वीट करके मामले में सफाई दी है उन्होंने लिखा- दर्शन करके मंदिर से बाहर निकली तब मीडिया जगत से जुड़े कई लोग उपस्थित थे, उन्होंने बहुत सारे प्रश्न किए, किंतु एक महत्वपूर्ण प्रश्न ड्रेस कोड के बारे में था। उमा भारती ने उसका उत्तर दिया जो इस प्रकार है-
“मुझे पुजारियों द्वारा निर्धारित ड्रेस कोड पर कोई आपत्ति नहीं है, मैं जब अगली बार मंदिर में दर्शन करने आऊंगी तब वह यदि कहेंगे तो मैं साड़ी भी पहन लूंगी। मुझे तो साड़ी पहनना बहुत पसंद है तथा मुझे और खुशी होगी यदि पुजारीगण ही मुझे अपनी बहन समझकर मंदिर प्रवेश के पहले साड़ी भेंट कर दें मैं बहुत सम्मानित अनुभव करूंगी।” बता दे 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक मात्र महाँकाल मंदिर ही ऐसा है जहां सुबह भस्म आरती की जाती है। इसके लिए बाकायदा महिलाओं और पुरुश के लिए अलग-अलग ड्रेस कोड है। साथ ही जब मंदिर के गर्भ गृह में प्रवेश बंद होता है तब भी अगर अंदर जाकर दर्शन करना हो तो महिलाएं गर्भ ग्रह में सिर्फ साड़ी में ही प्रवेश कर सकती हैं। वहीं पुरुष सोला और धोती में प्रवेश कर सकते हैं। हालांकि कुछ साध्वी अचला धोती और सन्यासी ड्रेस के ऊपर जैकेट पहन कर ही प्रवेश कर जाती हैं।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED