उमा ने शिवराज को ऐसा क्या लिखा कि मच गया बवाल ? जानिये

उमा ने शिवराज को ऐसा क्या लिखा कि मच गया बवाल ? जानिये
Spread the love

भोपाल : केंद्रीय जलसंसाधन मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती की एक चिट्ठी ने प्रदेश के सियासी गलियारों में बवाल मचा दिया है. उमा भारती ने इस साल मार्च में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी विनय निगम को IAS प्रमोट करने के लिए चिट्ठी लिखी थी. उमा भारती की चिट्ठी में डीपीसी की चयन प्रक्रिया पर भी सवाल खड़े किए गए हैं.

चिट्ठी में उमा भारती ने लिखा है कि उनसे बदला लेने के लिए कुछ अफसर ऐसा काम कर रहे हैं. ये वही अफसर हैं जिन्हें उन्होंने कभी न कभी दंडित किया था. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वो उत्तराखंड में अपना मौन व्रत तोड़कर चिट्ठी लिख रही है. उमा ने लिखा है कि सूत्रों से जब पता किया तो डीपीसी की प्रक्रिया की सच्चाई का पता चला. इसलिए विनय निगम के लिए रिव्यू डीपीसी करवाई जाए.

पूर्व मुख्यमंत्री उमा ने याद दिलाया कि उन्हीं के आग्रह पर सीएम शिवराज ने किस तरह विनय निगम को लोकायुक्त जांच में माफ किया था. बदला लेने के लिए लोकायुक्त में भी उनके खिलाफ मनगढ़ंत शिकायत दर्ज कराई गई. मैंने उस समय इकबाल सिंह बैस को बुलाया था और निवेदन किया था कि मेरे साथ काम करने के दौरान विनय के खिलाफ शिकायत नहीं होनी चाहिए, लेकिन उसके बाद भी उन्होंने आपसे साइन कराकर लोकायुक्त में शिकायत भेज दी.

विनय की तारीफ करते हुए उमा ने लिखा है कि वो 20 साल से विनय निगम को जानती हैं. वो साफ-सुथरी छवि वाले अधिकारी हैं. डीपीसी में उन्हें आगे नहीं बढ़ने दिया जा रहा है. पार्टी छोड़ने के बाद भी विनय काफी समय तक ओएसडी के तौर पर उमा भारती के साथ रहे. विनय निगम 1994 बैच के डिप्टी कलेक्टर हैं, जो वर्तमान में मंडी बोर्ड के अपर संचालक पद पर हैं. उमा भारती के मुख्यमंत्री रहते विनय निगम उनके एडिशनल पीएस थे.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED