राम नाम की सियासत पर उमा का बड़ा बयान, कहा – राम बीजेपी के पेटेंट नहीं !

राम नाम की सियासत पर उमा का बड़ा बयान, कहा – राम बीजेपी के पेटेंट नहीं !
Spread the love

भोपाल .  अयोध्या में बनने जा रहे भव्य राम मंदिर को लेकर एकबार फिर सियासत उफान पर है। बीजेपी इसे अपनी बड़ा सफलता के तौर पर प्रचार कर रही है और इसका पूरा राजनीतिक लाभ लेने की जुगत में है। पार्टी का दावा है कि राम मंदिर आंदोलन के लिए दिया गया उनका बलिदान सर्वोपरि है। भूमिपूजन में भी पीएम मोदी समेत बीजेपी औऱ संघ परिवार के बड़े नेता ही शामिल हुए। ऐसे में बीजेपी को सारा श्रेय मिलते देख कांग्रेस भी मैदान में कूद गई है।

कांग्रेस का कहना है कि राम मंदिर निर्माण का असली क्रेडिट दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी को जाता है क्योंकि उन्होंने ही ताला खुलवाया और पुजा करने की अनुमति प्रदान करवाई। ऐसे में राम नाम पर दोनों दलों के बीच जमकर सियासत शुरू हो गई है। इस बीच राम मंदिर आंदोलन के बड़े चेहरे के तौर पर जाने जानी वाली पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने राम नाम पर चल रही राजनीति पर बड़ा बयान दिया है। उमा ने कहा कि राम नाम किसी का पेंटेट नहीं हो सकता है। राम नाम भाजपा का पेटेंट नहीं है। राम नाम अयोध्या या बीजेपी की बपौती नहीं है।

राम उन सबके हैं जो उनमे आस्था रखते हैं, चाहें वो बीजेपी में हों अथवा नहीं। लंबे और कड़े संघर्ष के बाद ये शुभ दिन आय़ा है। ऐसे में इस पर सियासत नहीं होनी चाहिए। उमा के इस बयान के कई माय़ने निकाले जा रहे हैं। वहीं उनके इस बयान को फौरन लपकते हुए उनके सियासी प्रतिदंविंदी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने समर्थन किया है। ऐसे में ये देखने वाली बात होगी कि आनेवाले दिनों में होने जा रहे उपचुनाव में उनकी अपनी ही पार्टी उनकी इस नसीहत को कितना आत्मसात करती है।

 

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED