मेधा पाटकर के नेतृत्व में मिल मजदूरों का हल्ला बोल!

Spread the love

इंदौर | आज शहर में नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री एवं सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर के नेतृत्व में सेंचुरी यार्न एंड डेनिम मील के मजदूरों ने जमकर नारे बाजी की और श्रम विभाग का घेराव किया.

मध्यप्रदेश के खरगौन जिले की बिड़ला ग्रुप की कंपनी सेंचुरी (यार्न व डेनिम) मिल के 500 मजदूरों को नौकरी से निकाले जाने और मिल को दूसरी कंपनी को बेचने से नाराज मिल कर्मचारियों ने जमकर नारे बाजी की,मजदूरों का आरोप है की कंपनी ने बड़े नई नाटकीय अंदाज में कंपनी को बंद कर दिया गौरतलब है के मजदुर इस मिल में करीब 25 सालों से काम कर रहे लोगों की आजीविका का एक मात्र साधन यही था कंपनी के बंद होने से मजदूरों को अपना भविष्य संकट में दिखने लगा है।

इस दौरान मेधा पथकर ने मीडिया से चर्चा करते हुए कंपनी के मालिकों पर निशाना साधा उनका कहना है मिल मजदूरों के खून पसीने की कमाई से मुनाफा कमाकर उद्योगपतियों की और मुनाफाखोरी के चलते इसे बेचने की कोशिश की लेकिन इंडस्ट्रियल ट्रिब्यूनल और हाई कोर्ट ने ख़ारिज कर दिया अब इस मिल को संस्था बनाकर मजदुर ही चलाएंगे.मेधा पाटकर ने मजदूरों की तनख्वाह और आगे की रूप रेखा के बारे में भी जानकारी दी,और श्रम आयुक्त से चर्चा भी साझा की.

बहरहाल मजदूरों ने कमर कस ली है अब वो मजदूरों की संस्था बना कर कंपनी का संचालन करेंगे ,अब देखना दिलचस्प होगा क्या मजदुर खून पसीने के साथ-साथ मैनेजमेंट कर पाएंगे.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED