क्या कमलनाथ को दोबारा सिंहासन पर बैठा पाएंगे दिग्विजय सिंह!

क्या कमलनाथ को दोबारा सिंहासन पर बैठा पाएंगे दिग्विजय सिंह!
Spread the love

भोपाल . 2018 में नर्मदा परिक्रमा के जरिए सूबे में कांग्रेस का वनवास खत्म करने वाले कद्दावर कांग्रेसी दिग्विजय सिंह सियासत के माहिर खिलाड़ी माने जाते हैं। प्रदेश में कांग्रेस की सत्ता में वापसी करवाने में अहम भूमिका निभाने वाले राज्यसभा सांसद अपने सियासी मैनेजमेंट को लेकर काफी मशहूर हैं। यही वजह है कि लंबे समय से सत्ता से बाहर रहने के बावजूद गांधी परिवार से उनकी जबरदस्त केमेस्ट्री है। कांग्रेस पार्टी में उनके प्रभाव का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 15 माह की कमलनाथ सरकार के बारे में ये आम धारणा थी कि इसे दिग्विजय सिंह परदे के पीछे से चला रहे हैं।  एमपी के सियायत में चाणक्य की भूमिका निभाने वाले दिग्विजय सिंह अपने वाकपटुता के लिए भी जाने जाते हैं।  चुनाव प्रचार से लंबे वक्त तक दूर रहने वाले दिग्विजय सिंह जब विपक्ष के निशाने पर आए तो उन्होंने इसका जवाब अपने अंदाज में देते हुए कहा कि वो अंतिम ओवरों में विस्फोटक पारी खेलने वाले बल्लेबाज हैं।

दरअसल ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद प्रदेश का सिय़ासी समीकरण तो बदला ही, साथ ही एमपी कांग्रेस के अंदर के भी समीकरण बदले हैं। इस बदले समीकरण 10 सालों तक मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह की भूमिका अब और निर्णायक हो गई है। लिहाजा अपने सहयोगी कमलनाथ को पुनः सिंहासन पर बैठाने में वो कितने मददगार साबित होते हैं, ये 10 नवंबर यानि मतगणना दे दिन स्पष्ट हो जाएगा।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0
© 2021 MP NEWS AND MEDIA NETWORK PRIVATE LIMITED